Travel Uttarakhand

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान | Govind National Park

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान | Govind National Park

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान, जिसे गोविंद पशु विहार वन्यजीव अभयारण्य और राष्ट्रीय उद्यान के रूप में भी जाना जाता है, भारत के उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित है। 1955 में स्थापित, यह लगभग 957.969 वर्ग किलोमीटर (370 वर्ग मील) के क्षेत्र को कवर करता है और इसका नाम पूर्व भारतीय प्रधान मंत्री गोविंद बल्लभ पंत के नाम पर रखा गया है।

Advertisement

 गोविंद राष्ट्रीय उद्यान की कुछ प्रमुख विशेषताएं हैं:

जैव विविधता: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान अपनी समृद्ध जैव विविधता के लिए जाना जाता है और विभिन्न वनस्पतियों और जीवों की प्रजातियों के लिए एक महत्वपूर्ण संरक्षण क्षेत्र के रूप में कार्य करता है। यह वन्यजीवों की एक विस्तृत श्रृंखला का घर है, जिनमें हिम तेंदुए, हिमालयी काले भालू, कस्तूरी मृग, सीरो, भरल (नीली भेड़), हिमालयी थार, कोक्लास तीतर, मोनाल तीतर, और पक्षियों, तितलियों और कीड़ों की कई प्रजातियाँ शामिल हैं।

अल्पाइन घास के मैदान और ग्लेशियर: पार्क की विशेषता इसकी प्राचीन अल्पाइन घास के मैदान, उच्च ऊंचाई वाले जंगल और ग्लेशियर हैं। ऊबड़-खाबड़ इलाका, बर्फ से ढकी चोटियाँ और हिमनदी धाराएँ पार्क की प्राकृतिक सुंदरता में योगदान करती हैं और अद्वितीय पौधों और जानवरों की प्रजातियों के लिए आवास प्रदान करती हैं।

ट्रैकिंग और साहसिक: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान ट्रैकिंग और साहसिक गतिविधियों के लिए उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है। यह पार्क हर की दून ट्रेक, केदारकांठा ट्रेक और रुइंसारा ताल ट्रेक जैसे लोकप्रिय ट्रेक के लिए आधार के रूप में कार्य करता है। ये ट्रेक आपको सुरम्य परिदृश्यों, दूरदराज के गांवों और आसपास की हिमालय चोटियों के आश्चर्यजनक दृश्यों के माध्यम से ले जाते हैं।




वनस्पति और औषधीय पौधे: पार्क में वनस्पतियों की एक विविध श्रृंखला है, जिसमें अल्पाइन घास के मैदान, शंकुधारी वन और उप-अल्पाइन वन शामिल हैं। यह अपने विभिन्न प्रकार के औषधीय पौधों और जड़ी-बूटियों के लिए जाना जाता है जिनका पारंपरिक आयुर्वेदिक प्रथाओं में महत्वपूर्ण सांस्कृतिक और औषधीय महत्व है।

वन्यजीव संरक्षण: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान अपनी अद्वितीय वन्यजीव प्रजातियों के संरक्षण और सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। हिम तेंदुए और हिमालयी काले भालू जैसी लुप्तप्राय प्रजातियों की सुरक्षा के लिए प्रयास किए जाते हैं। यह पार्क उनके प्राकृतिक आवासों के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

गंगा नदी बेसिन: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान ऊपरी गंगा नदी बेसिन में स्थित है, जिसे हिंदू पौराणिक कथाओं में एक पवित्र नदी माना जाता है। पार्क का प्राकृतिक वातावरण और गंगा नदी से इसकी निकटता इसे एक महत्वपूर्ण पारिस्थितिक और सांस्कृतिक क्षेत्र बनाती है।

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान में पर्यटक इसकी प्राकृतिक सुंदरता का पता लगा सकते हैं, विविध वन्य जीवन देख सकते हैं, ट्रैकिंग रोमांच का आनंद ले सकते हैं और शांत अल्पाइन परिदृश्य की सराहना कर सकते हैं। यह सलाह दी जाती है कि अपनी यात्रा की योजना बनाने से पहले परमिट, ट्रैकिंग मार्गों, आवास विकल्पों और किसी विशिष्ट दिशानिर्देश या प्रतिबंध के बारे में नवीनतम जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट देखें या पार्क अधिकारियों से संपर्क करें।




गोविंद राष्ट्रिय उद्यान में संरक्षित प्रजातियां

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान विभिन्न प्रकार की पशु प्रजातियों का घर है, जिनमें दुर्लभ और सामान्य वन्यजीवन दोनों शामिल हैं। यहां कुछ प्रमुख जानवर हैं जो पार्क में पाए जा सकते हैं:

हिम तेंदुआ (पैंथेरा अनसिया): हिम तेंदुआ, एक लुप्तप्राय प्रजाति, गोविंद राष्ट्रीय उद्यान के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में निवास करता है। वे मायावी हैं और पहाड़ी इलाकों के लिए अच्छी तरह से अनुकूलित हैं।

हिमालयी काला भालू (उर्सस थिबेटानस): यह पार्क हिमालयी काले भालू की आबादी के लिए जाना जाता है, जो जंगली इलाकों और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पाए जाते हैं। उनके पास काला फर और एक स्पष्ट वी-आकार की छाती का निशान है।

कस्तूरी मृग (मॉस्कस क्राइसोगास्टर): कस्तूरी मृग, जो अपनी कस्तूरी ग्रंथि के लिए जाना जाता है, पार्क की अधिक ऊंचाई पर पाया जा सकता है। वे अपनी अनूठी उपस्थिति और कस्तूरी के स्राव के लिए जाने जाते हैं, जिसका उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता है।

सीरो (कैप्रीकोर्निस सुमात्रैन्सिस): सीरो, एक प्रकार की बकरी-मृग, गोविंद राष्ट्रीय उद्यान के चट्टानी इलाकों और घने जंगलों में पाए जाते हैं। वे अपनी प्रभावशाली चढ़ाई क्षमताओं के लिए जाने जाते हैं।

भरल (नीली भेड़) (स्यूडोइस नायौर): भरल, जिसे नीली भेड़ के रूप में भी जाना जाता है, आमतौर पर पार्क के अल्पाइन घास के मैदानों और चट्टानी ढलानों में पाए जाते हैं। उनके पास नीले-भूरे रंग का कोट है और वे पहाड़ी इलाकों के लिए अच्छी तरह से अनुकूलित हैं।

हिमालयन थार (हेमित्रागस जेमलाहिकस): हिमालयन थार, एक प्रकार की जंगली बकरी, चट्टानी चट्टानों और पार्क की अधिक ऊंचाई पर देखी जा सकती है। उनके पास मोटे कोट और प्रभावशाली सींग हैं।

कोक्लास तीतर (पुक्रेसिया मैक्रोलोफा): पार्क अपनी पक्षी आबादी के लिए जाना जाता है, और कोक्लास तीतर गोविंद राष्ट्रीय उद्यान में पाई जाने वाली प्रमुख पक्षी प्रजातियों में से एक है। यह एक रंगीन और विशिष्ट पक्षी है जो अपने पंखों और स्वरों के लिए जाना जाता है।

मोनाल तीतर (लोफोफोरस इम्पेजेनस): मोनाल तीतर, अपने जीवंत और इंद्रधनुषी पंखों के साथ, पार्क में पाई जाने वाली एक और उल्लेखनीय पक्षी प्रजाति है। वे अपनी आश्चर्यजनक सुंदरता के लिए जाने जाते हैं और उन्हें उत्तराखंड का राज्य पक्षी माना जाता है।

 

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान में करने योग्य गतिविधियां

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान का दौरा करते समय, आप कई गतिविधियों और अनुभवों का आनंद ले सकते हैं। यहां पार्क में करने योग्य कुछ चीज़ें दी गई हैं:

ट्रैकिंग: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान ट्रैकिंग के शौकीनों के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। हर की दून ट्रेक, केदारकांठा ट्रेक, या रुइंसारा ताल ट्रेक जैसे ट्रेक पर जाएं, जो आसपास की हिमालय की चोटियों, अल्पाइन घास के मैदानों और हिमनदी घाटियों के शानदार दृश्य पेश करते हैं। ये ट्रेक प्रकृति में डूबने, विविध वनस्पतियों और जीवों को देखने और पहाड़ी परिदृश्यों की शांति का अनुभव करने का अवसर प्रदान करते हैं।

वन्यजीव स्थल: पार्क की पगडंडियों का अन्वेषण करें और वन्यजीवों के दर्शन पर नजर रखें। गोविंद राष्ट्रीय उद्यान अपने विविध वन्य जीवन के लिए जाना जाता है, जिसमें हिम तेंदुए, हिमालयी काले भालू, कस्तूरी मृग, सीरो, भरल (नीली भेड़), और विभिन्न पक्षी प्रजातियां शामिल हैं। इन मायावी प्राणियों को देखने की संभावना बढ़ाने के लिए एक स्थानीय गाइड को किराए पर लें या संगठित वन्यजीव सफारी में शामिल हों।

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान |पक्षी देखना: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान पक्षी देखने वालों के लिए स्वर्ग है। दुर्लभ और स्थानिक प्रजातियों सहित इसकी विविध पक्षी आबादी के साथ, पक्षी देखने के शौकीन लोग कोक्लास तीतर, मोनाल तीतर, हिमालयन ग्रिफॉन, गोल्डन ईगल और कई अन्य पक्षियों को देख सकते हैं। इन पंख वाले प्राणियों की सुंदरता को कैद करने के लिए अपनी दूरबीन और कैमरा साथ रखें।

फोटोग्राफी और प्रकृति की सैर : पार्क के लुभावने परिदृश्य, अल्पाइन घास के मैदान और बर्फ से ढकी चोटियाँ फोटोग्राफी और प्रकृति की सराहना के उत्कृष्ट अवसर प्रदान करती हैं। आश्चर्यजनक परिदृश्यों, अद्वितीय वनस्पतियों और जीवों को कैद करें, और पार्क में अपने समय की यादों को संरक्षित करें।

प्रकृति की सैर और कैम्पिंग: अपने आस-पास की शांति और प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेते हुए, पार्क की पगडंडियों पर इत्मीनान से प्रकृति की सैर करें। पार्क के भीतर कई कैंपिंग साइटें उपलब्ध हैं, जो आपको जंगल की शांति का अनुभव करने और तारों के नीचे रातें बिताने की अनुमति देती हैं।

हर की दून की यात्रा करें: यदि आप हर की दून ट्रेक पर हैं, तो हर की दून घाटी की सुंदरता में डूब जाएं। सुरम्य परिदृश्यों का अन्वेषण करें, स्थानीय गांवों का दौरा करें, स्थानीय समुदायों के साथ बातचीत करें और उनके जीवन के तरीके के बारे में जानें।

वानस्पतिक अन्वेषण: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान औषधीय पौधों और अल्पाइन फूलों सहित विविध वनस्पतियों का घर है। पार्क में पाए जाने वाले पौधों की प्रजातियों का पता लगाने, उनके औषधीय गुणों के बारे में जानने और प्राकृतिक विविधता की सराहना करने का अवसर लें।

वन्यजीव संरक्षण जागरूकता: पार्क के वन्यजीव संरक्षण प्रयासों के बारे में जानकारी प्राप्त करें और नाजुक पारिस्थितिकी तंत्र को संरक्षित करने में आने वाली चुनौतियों के बारे में जानें। वन्यजीवों और उनके आवासों की सुरक्षा के लिए की गई पहलों को समझने के लिए पार्क अधिकारियों और स्थानीय संगठनों के साथ जुड़ें।

उत्तराखंड में स्थित सभी प्रमुख मंदिर | All major temples in Uttarakhand




गोविंद राष्ट्रिय उद्यान में जाने के लिए अनुमति, परमिट और आवेदन

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान में प्रवेश करने के लिए, आपको आवश्यक अनुमतियाँ और परमिट प्राप्त करने की आवश्यकता होगी। प्रवेश के लिए अनुमति प्राप्त करने की सामान्य प्रक्रिया यहां दी गई है:

आधिकारिक वेबसाइट देखें: प्रवेश परमिट, नियमों और विनियमों की जानकारी के लिए गोविंद राष्ट्रीय उद्यान की आधिकारिक वेबसाइट या उत्तराखंड वन विभाग की वेबसाइट पर जाएं। वेबसाइट अनुमति प्राप्त करने की प्रक्रिया और आवश्यकताओं पर विवरण प्रदान करेगी।

पार्क प्राधिकारियों से संपर्क करें: प्रवेश परमिट और अनुमतियों के संबंध में विशेष जानकारी के लिए पार्क प्राधिकारियों या उत्तराखंड वन विभाग से संपर्क करें। वे आपको प्रक्रिया और किसी विशिष्ट आवश्यकता पर नवीनतम विवरण प्रदान कर सकते हैं।

आवेदन पत्र भरें: प्रवेश परमिट के लिए आवेदन पत्र ऑनलाइन या पार्क अधिकारियों से प्राप्त करें। आवश्यक जानकारी भरें, जैसे कि आपका व्यक्तिगत विवरण, आपकी यात्रा का उद्देश्य, ठहरने की अवधि और अनुरोधित कोई अतिरिक्त विवरण।

सहायक दस्तावेज़ संलग्न करें: प्रवेश परमिट के लिए आवश्यक कोई भी सहायक दस्तावेज़ संलग्न करें। इसमें पहचान दस्तावेज (पासपोर्ट, आईडी कार्ड, आदि), पासपोर्ट आकार की तस्वीरें और पार्क अधिकारियों द्वारा निर्दिष्ट कोई अन्य दस्तावेज शामिल हो सकते हैं।

शुल्क का भुगतान करें: पार्क अधिकारियों द्वारा निर्दिष्ट आवश्यक प्रवेश शुल्क या परमिट शुल्क का भुगतान करें। शुल्क राशि ठहरने की अवधि, यात्रा के उद्देश्य और प्रवेश परमिट के प्रकार जैसे कारकों के आधार पर भिन्न हो सकती है।

आवेदन जमा करें: भरे हुए आवेदन पत्र को सहायक दस्तावेजों और शुल्क भुगतान के साथ पार्क अधिकारियों द्वारा उल्लिखित नामित प्राधिकारी या कार्यालय में जमा करें। यह पार्क कार्यालय या अधिकारियों द्वारा निर्दिष्ट किसी विशिष्ट स्थान पर ऑनलाइन सबमिशन या व्यक्तिगत रूप से सबमिशन हो सकता है।

अनुमोदन की प्रतीक्षा करें: आवेदन जमा करने के बाद, अपने प्रवेश परमिट की स्वीकृति की प्रतीक्षा करें। प्रसंस्करण का समय अलग-अलग हो सकता है, इसलिए सलाह दी जाती है कि आप अपनी नियोजित यात्रा से पहले ही आवेदन कर दें।

प्रवेश परमिट प्राप्त करें: एक बार जब आपका आवेदन स्वीकृत हो जाता है, तो आपको प्रवेश परमिट या परमिट की पुष्टि प्राप्त होगी। यह ई-परमिट या भौतिक परमिट दस्तावेज़ के रूप में हो सकता है। गोविंद राष्ट्रीय पार्क की यात्रा के दौरान इस परमिट को अपने साथ रखना सुनिश्चित करें, क्योंकि प्रवेश द्वार पर या पार्क अधिकारियों द्वारा इसकी जाँच की जा सकती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि विशिष्ट प्रवेश आवश्यकताएं और प्रक्रियाएं भिन्न हो सकती हैं, और गोविंद नेशनल के लिए अनुमतियों, परमिट और प्रवेश आवश्यकताओं के बारे में सबसे सटीक और अद्यतित जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट की जांच करना या पार्क अधिकारियों से संपर्क करना उचित है। पार्क।

उत्तराखंड में घूमने की 40 खूबसूरत जगहें




गोविंद राष्ट्रीय उद्यान जाने के लिए प्रवेश गेट

गोविंद राष्ट्रीय उद्यान में कई प्रवेश बिंदु हैं जो पार्क के विभिन्न हिस्सों तक पहुंच प्रदान करते हैं। प्रवेश बिंदु आगंतुकों को विभिन्न ट्रैकिंग मार्गों का पता लगाने और पार्क की प्राकृतिक सुंदरता का अनुभव करने की अनुमति देते हैं। यहाँ गोविंद राष्ट्रीय उद्यान के कुछ प्रवेश बिंदु हैं:

तालुका: तालुका पार्क के बाहरी इलाके में स्थित एक छोटा सा गाँव है और यह हर की दून ट्रेक और रुइंसारा ताल ट्रेक जैसे लोकप्रिय ट्रेक के लिए शुरुआती बिंदु के रूप में कार्य करता है। यह उन लोगों के लिए प्रवेश बिंदु है जो पार्क के पश्चिमी हिस्से और इसके आसपास के क्षेत्रों का पता लगाने की योजना बना रहे हैं।

सांकरी: सांकरी उत्तरकाशी जिले में स्थित एक सुंदर गांव है और गोविंद राष्ट्रीय उद्यान के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। यह केदारकांठा ट्रेक और बाली पास ट्रेक जैसे ट्रेक का शुरुआती बिंदु है। सांकरी से, आप पार्क के भीतर विभिन्न मार्गों और प्रवेश बिंदुओं की ओर आगे बढ़ सकते हैं।

नेटवार: नेटवार गोविंद राष्ट्रीय उद्यान के पास स्थित एक छोटा सा शहर है और इस क्षेत्र में ट्रेक के लिए एक और प्रवेश बिंदु है। इसे अक्सर हर की दून और आसपास की अन्य घाटियों के लिए ट्रेक के शुरुआती बिंदु के रूप में उपयोग किया जाता है।

पुरोला: पुरोला, जिसे “यमुनोत्री का प्रवेश द्वार” भी कहा जाता है, यमुनोत्री मार्ग पर स्थित एक शहर है। यह गोविंद राष्ट्रीय उद्यान के पास स्थित है और पार्क के भीतर विभिन्न ट्रैकिंग ट्रेल्स और प्रवेश बिंदुओं तक पहुंच प्रदान करता है।

इन प्रवेश बिंदुओं का उपयोग आम तौर पर गोविंद राष्ट्रीय उद्यान में ट्रेक और अभियानों के लिए आधार शिविर या शुरुआती बिंदु के रूप में किया जाता है। इन स्थानों से, आप अपने चुने हुए ट्रैकिंग मार्ग पर चल सकते हैं और पार्क के सुंदर परिदृश्य, अल्पाइन घास के मैदान और हिमनद घाटियों का पता लगा सकते हैं। अपने ट्रैकिंग कार्यक्रम और प्राथमिकताओं के आधार पर सबसे उपयुक्त प्रवेश बिंदु निर्धारित करने के लिए स्थानीय गाइड या टूर ऑपरेटर से परामर्श करना उचित है।

उत्तराखंड की प्रसिद्ध मिठाइयाँ | Famous sweets of Uttarakhand in Hindi




गोविंद राष्टीय उद्यान कैसे पहुंचे

भारत के उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित गोविंद राष्ट्रीय उद्यान तक पहुंचने के लिए, आप इन परिवहन विकल्पों का पालन कर सकते हैं:

हवाई मार्ग से: गोविंद नेशनल पार्क का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 220 किलोमीटर (137 मील) दूर है। हवाई अड्डे से, आप पार्क तक पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या प्री-पेड टैक्सी ले सकते हैं। सड़क मार्ग से देहरादून से गोविंद नेशनल पार्क तक की यात्रा में लगभग 6-7 घंटे लगते हैं।

ट्रेन द्वारा: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान का निकटतम प्रमुख रेलवे स्टेशन देहरादून रेलवे स्टेशन है, जो लगभग 200 किलोमीटर (124 मील) दूर स्थित है। रेलवे स्टेशन से, आप पार्क तक पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या स्थानीय बस ले सकते हैं। सड़क मार्ग से देहरादून से गोविंद नेशनल पार्क तक की यात्रा में लगभग 6-7 घंटे लगते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा: गोविंद राष्ट्रीय उद्यान उत्तराखंड के विभिन्न शहरों और कस्बों से सड़क मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार जैसे शहरों से सड़क मार्ग द्वारा जिला मुख्यालय उत्तरकाशी तक पहुंच सकते हैं। उत्तरकाशी से, आप गोविंद राष्ट्रीय उद्यान तक पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या स्थानीय बस ले सकते हैं। उत्तरकाशी से पार्क तक की सड़क यात्रा में विशिष्ट प्रवेश बिंदु के आधार पर लगभग 2-3 घंटे लगते हैं।

सेल्फ-ड्राइव या किराये की कार: यदि आप गाड़ी चलाना पसंद करते हैं, तो आप गोविंद राष्ट्रीय उद्यान तक पहुंचने के लिए कार किराए पर ले सकते हैं या अपना वाहन चला सकते हैं। पार्क के मार्ग में आम तौर पर देहरादून से उत्तरकाशी तक राष्ट्रीय राजमार्ग 94 पर यात्रा करना और फिर विशिष्ट प्रवेश बिंदु तक आगे बढ़ना शामिल होगा।

सार्वजनिक परिवहन: राज्य द्वारा संचालित बसें और निजी बसें उत्तराखंड के प्रमुख शहरों, जैसे देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार से उत्तरकाशी तक नियमित सेवाएं संचालित करती हैं। उत्तरकाशी से, आप पार्क तक पहुँचने के लिए स्थानीय बसें या साझा टैक्सियाँ ले सकते हैं। उत्तराखंड सड़क परिवहन निगम (UTC) की बसें इस क्षेत्र में सार्वजनिक परिवहन का एक सामान्य साधन हैं।

 


अगर आपको उत्तराखंड से सम्बंधित यह पोस्ट अच्छी  लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी बड़ी और छोटी कहानियाँ Amozone पर उपलब्ध है। आप उन्हें पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment

You cannot copy content of this page