Viral News

आजादी के 73 साल बाद सड़क मार्ग से जुड़ेगा रुद्रप्रयाग जिले का आखिरी गाँव “गौंडार”

गौंडार

 

उत्तराखण्ड में द्धितीय केदार मदमहेश्वर की यात्रा जल्द ही और सुगम होने वाली है। आजादी के 73 सालों के इंतजार के बाद रांसी-तलसारी तोक- गौंडार मोटर मार्ग के निर्माण के लिए वन भूमि हस्तांतरण को हरी झंडी मिलने से सैद्धांतिक स्वीकृति मिल गई है। इससे जनपद के आखिरी गांव गौंडार में 76 परिवारों का वर्षों से सड़क का इंतजार अब खत्म हो जाएगा। लोक निर्माण विभाग (लोनिवि) द्धारा जरुरी धनराशी वन विभाग में जमा करने के बाद भूमि हस्तांतरण की कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।
इसे भी पढ़ें – दुनिया के सबसे ऊँचे शिव मंदिर की विरासत को संजोएगा भारतीय पुरातात्विक सर्वेक्षण




आपको बता दें कि गौंडार गांव, मदमहेश्वर की यात्रा का प्रमुख पड़ाव है। जिसकी दूरी रांसी के बाद पैदल ही पूरी की जाती है। रांसी – तलसारी तोक – गौंडार पाँच किलोमीटर सड़क की स्वीकृति वर्ष 2004-05 में ही मिल गई थी। मगर वन हस्तांतरण की नीति के कारण सालों तक यह सड़क फाइलों में ही सिमटी रही। सालों तक स्थानिय लोगों व जनप्रतिनिधियों के संघर्ष के बाद आखिरकार इस सड़क को केंद्र द्धारा भी स्वीकृति मिल गयी है। इस पर गांव वालों में काफी खुशी जाहिर कि तथा बताया कि सड़क बनने से अब गौंडार भी विकास की मुख्य धारा में शामिल हो जाएगा। आगे पढ़ें।                                                                                                                                                      इसे पढ़ें – रुद्रप्रयाग में स्थित इस जगह का कैंपिंग डेस्टिनेशन के रुप में होगा विकास.. पढ़िए पूरी खबर




आपको बता दें कि सड़क बनने से जहाँ स्थानिय लोगों को अब पैदल यात्रा नहीं करनी पड़ेगी। वहीं रांसी जो हल्के वाहनों के लिए सड़क बनाई गयी थी। लेकिन अब गौंडर तक सड़क मार्ग बनने से 18 किमी मदमहेश्वर की यात्रा की दूरी भी कम हो जाएगी। वहीं सड़क मार्ग निर्माण के बाद गौंडार मुख्य बाजार के रुप में विकसित होगा। इससे यात्रा काल के दौरान स्थानिय लोगों को भी रोजगार मिलेगा। इस मौके पर प्रधान वीर सिंह पंवार, क्षेत्र पंचायत सदस्य बलवीर भट्ट, सरपंच मदन सिंह पंवार, महिला मंगल दल अध्यक्ष कविता देवी, दरवान सिंह, गोपाल सिंह, कुंवर सिंह ने खुशी जाहिर की व ग्राम वासियों को बधाई दी।
इसे भी पढ़ें – 84 कुटिया : ऋषिकेश में दूसरा सबसे बड़ा पर्यटक स्थल .. क्यों है इतना प्रसिद्ध? जानिए

देखिए – उत्तराखंड में पाए जाने वाले पक्षियों की सुंदर तस्वीरें 

 


अगर आपके पोस्ट  अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं पेशे से एक journalist, script writer, published author और इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी किताब "दो पल के हमसफ़र " amazon पर उपलब्ध है। आप उसे पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिस है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिस में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके आलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। मेरे बारे में ज्यादा जानने के लिए आप मेरे सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ सकते हैं। :) बोली से गढ़वाली मगर दिल से पहाड़ी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment