Travel Uttarakhand

कौसानी – भारत का स्विट्ज़रलैंड

कौसानी उत्तराखंड की खूबसूरत वादियों का जिक्र हो और उसमे कौसानी का नाम न आये ऐसा कैसे  संभव है। आज हम आपको भारत के स्विट्ज़रलेंड कहे जाने वाले एक खूबसूरत पहाड़ी गांव कौसानी के बारे में बताएंगे तो पोस्ट को अंत तक पढ़ें।  :))


कौसानी 

कौसानी, भारत की खूबसूरती को दर्शाता उत्तराखंड का एक छोटा सा गाँव, जिसे “भारत का स्विट्ज़रलैंड” भी कहा जाता है। कौसानी उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिले में स्थित एक छोटा सा गाँव है। पहले इसका नाम बलना था।  यह एक पर्वतीय पर्यटक स्थल है। पिंगनाथ चोटी पर बसा यह गांव हिमालय की खूबसूरती को  अपने आप में समेटे हुए है। यह गांव कोसी और गोमती नदी के बीच में बसा  है। इसका मनमोहक दृश्य, नैसर्गिक सुंदरता, पहाड़ी बसावट और धार्मिक पर्येटक स्थल किसी का भी मन मोह लेते है।  



कौसानी से 300 किमी में फैले हिमालय की त्रिशूल, नंदादेवी और पंचाचूली की सुन्दर पर्वत श्रृंखलाओं का खूबसूरत नजारा देखा जा सकता है। अगर में इस गांव की साक्षरता दर की बात करूं तो आप हैरान हो जाओगे कि इस छोटे से गांव में साक्षरता दर 86.80% है। जिसमे पुरुष साक्षरता दर 96% व महिला साक्षरता दर 79% है। यहां के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती और टूरिज्म है। चाय की खेती के लिए भी इस छोटे से गांव को जाना जाता है। वर्ष 2000-2001 में स्थापित कौसानी टी स्टेट से 30 हजार किलोग्राम चाय की पैदावार हुई थी। उत्तराखंड की प्रसिद्ध गरियास टी का उत्पादन यहीं होता है।


कौसानी का इतिहास 

कौसानी गांव का नाम कौसानी, कौशिक मुनि की वजह से पड़ा । कहा जाता है कि कौशिक मुनि ने इस स्थान पर कठोर तपस्या की थी इसलिए इस जगह को कौसानी कहा जाता है। कौसानी के ठीक सामने कत्यूर घाटी है। कत्यूरी घाटी कत्यूरी शासकों की सांस्कृतिक इतिहास के भी दर्शाता है। कौसानी गांव को याद रखने के दो अन्य कारण भी हैं।



पहला कारण हैभारत के प्रसिद्ध कवि सुमित्रानंदन पंत जिनका जन्म सन 1900 में कौसानी गाँव में हुआ था ।  दूसरा महात्मा गाँधी जी, जिन्होंने वर्ष 1929 कुमाऊं  दौरान 12 दिन कौसानी में रहकर अनासक्ति योग की पृष्ठभूमि लिखी थी। गाँधी जी ने ही कौसानी को “भारत के स्विट्ज़रलैंड” की उपाधि दी और “यंग इंडिया” नामक पुस्तक में कौसानी की सुंदरता का वर्णन किया। गांधी जी के यंग इंडिया में कौसानी के खूबसूरती के वर्णन के बाद कौसानी सम्पूर्ण विश्व में एक पर्यटक स्थल के रूप में जाना जाने लगा ।


कौसानी में स्तिथ प्रमुख दार्शिनय स्थल 

यहां के लगभग सभी दर्शनीय स्थल प्रसिद्ध है जो इस इस छोटे से गांव की महत्वता पर चार चाँद लगा देते हैं। 

  • अनाशक्ति आश्रमइसे गांधी आश्रम भी कहा जाता है, इसका निर्माण गांधी जी को श्रद्धांजलि देने के लिए किया गया है। अनाशक्ति आश्रम की नींव गाँधी जी विदेशी शिष्या सरला बहन द्वारा 1946 में राखी गयी थी। सरला बहन का वास्तविक नाम कैथरीन हेइलमैन था। 
  • लक्ष्मी आश्रम – लक्ष्मी आश्रम की नींव भी सरला बहन ने रखी थी । यह कौसानी से 1 किमी की दूरी पर स्तिथ है।
  • पंत म्यूज़ियम यह म्यूज़ियम महान कवि सुमित्रानंदन पंत जी की याद में बना है। यहां उनके जीवन से जुड़ी वस्तुएं और उनकी रचनाओं का संग्रह है। 
  • पिनाकेश्वर मंदिर – इस मंदिर में भगवान शिव की पूजा पिनाकेश्वर महादेव के रूप में की जाती है। यह ट्रेकिंग पसंद करने वालो के लिए बहुत ही अच्छी जगह है । यहाँ का प्राकृतिक सौंदर्य अद्भुत है।



  • सौमेश्वर मंदिर – कौसानी से 19 किमी. दूर यह मंदिर बेहद खूबसूरत है। इसका निर्माण कत्यूरी शासनकाल में हुआ था, इसलिए यह कत्यूरी शैली में बना है। 
  • कौसानी चाय बागान – कौसानी के चाय बागान पूरी दुनिया में मशहूर है। करीब 210 हैक्टेयर के एरिया में यह बागान फैले है। सबसे मशहूर चाय ‘गिरियास टी ‘ भी यहां उगाई जाती है। इस चाय को बाहर देशों में भी एक्सपोर्ट किया जाता है। 
  • प्रमुख व्यंजन – कौसानी में आलूगुटका बहुत खाया जाता है । यह वहां का मशहूर व्यंजन है । इसमें आलू को उबालकर उसमें नमकमिर्च डाल के चाय के साथ खाया जाता है। यहाँ की बाल मिठाई भी बहुत मशहूर हैं। 

इसे भी पढ़ें – केदारकांठा ट्रेक 


कौसानी के आसपास के स्थान 




प्रमुख ट्रेक 

  • पिंडारी ग्लेशियर ट्रेक
  • कफनी ग्लेशियर ट्रेक
  • सुंदर ढुंगा ट्रेक
  • मिलम ग्लेशियर ट्रेक
  • रुद्रहारी गुफा मंदिर ट्रेक
  • कफारी (कौसानी से 3 किमी)

इसे भी पढ़ें – दयारा बुग्याल ट्रेक 


कैसे पहुंचे 

यहां बस, रेल, या हवाई जहाज़ किसी भी मार्ग से आया जा सकता है। पंतनगर हवाई अड्डा यहाँ का सबसे नज़दीक का एयरपोर्ट है। जो कौसानी से 178 किमी की दूरी पर है। कौसानी के लिए दिल्ली से बसें नियमित रूप से चलती है । यहां घूमने के लिए मार्च से सितंबर तक समय सबसे अच्छा है। 

इसे भी पढें  –


यह पोस्ट अगर आप को अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं पेशे से एक journalist, script writer, published author और इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी किताब "दो पल के हमसफ़र " amazon पर उपलब्ध है। आप उसे पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिस है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिस में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके आलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। मेरे बारे में ज्यादा जानने के लिए आप मेरे सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ सकते हैं। :) बोली से गढ़वाली मगर दिल से पहाड़ी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment