Uttarakhand Uttarakhand Study Material

उत्तराखण्ड में मौजूद प्रमुख दर्रों की सूची

उत्तराखण्ड में मौजूद प्रमुख दर्रों

अगर आप उत्तराखण्ड पीसीएस और राज्य स्तर की परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं तो अक्सर कई सवाल राज्य में उपस्थिति दर्रों से संबंधित पूछा जाता है। इस पोस्ट में उत्तराखण्ड में मौजूद प्रमुख दर्रों ( major passes in Uttarakhand) के बारे में बताया गया है। इन दर्रों का पूर्व व्यापारिक रुप से बेहद महत्व था इन्हीं दर्रों के कारण पूर्व में लोग एक स्थान से दूसरे स्थान तक आते जाते रहे हैं। यहाँ तक कि बहुत से आक्रमणकारी इन्हीं दर्रों का सहारे भारत में घुसे थे और इस जगह को लूट कर गए।

फिर वो चाहे सिकंदर हो या फिर मौहम्मद गजवी या मौहम्मद गौरी सबने भारत के उत्तर में स्थित विशाल हिमालय श्रृंखलाओं को पार किया तथा भारत पर आक्रमण करने के लिए एक सुसज्जित सेना लेकर आए। वहीं इसके अलावा गढ़वाल के शासक भी इन्हीं दर्रों के सहारे कई बार तिब्बत पर आक्रमणकर चुके हैं। तो बस पढ़िए उत्तराखण्ड के इन प्रमुख दर्रों के बारे में ।


दर्रा क्या है?

पर्वतों और पहाड़ों के बीच स्थित प्राकृतिक संकरा मार्ग जिसका सदियों से व्यापारिक महत्व रहा है। यही नहीं युद्ध के लिए भी एक देश दूसरे देश पर पूर्व में इन्हीं दर्रों का इस्तेमाल करते थे। प्राकृतिक रुप से ये दर्रे नदी जल धाराओं या फिर हिमानियों के द्वारा बनते हैं जो कालांतर में सूख कर आवाजाही का प्रमुख मार्ग होता है।

उत्तराखण्ड में मौजूद प्रमुख दर्रों की सूची

 

नीचे सूचि में उत्तराखण्ड में मौजूद दर्रे और उसके आगे संपर्क मार्ग का नाम दिया है। ध्यान से पढ़ें ।



दर्रेसंपर्क
श्रृंग कण्ठउत्तरकाशी - हिमाचल प्रदेश
थागलाउत्तरकाशी - तिब्बत
कालिंदीउत्तरकाशी - चमोली
मुलिंगलाउत्तरकाशी - तिब्बत
नेलंगउत्तरकाशी - तिब्बत
सागचोकलाउत्तरकाशी - तिब्बत
लासपापिथौरागढ - चंपावत
ट्रेल पासपिथौरागढ - बागेश्वर
सुन्दरढुंगाबागेश्वर - चमोली
नीतिचमोली - तिब्बत
किंगरी - बिंगरीचमोली - तिब्बत
माणा या डुंगरीलाचमोली - तिब्बत
बालचाचमोली - तिब्बत
शलशलचमोली - तिब्बत
तन्जुमचमोली - तिब्बत
कोईचमोली - तिब्बत
भ्यूंडारचमोली - तिब्बत
चोरहोतीचमोली - तिब्बत
लमलंगचमोली - तिब्बत
घाटरलियाचमोली - तिब्बत
लिपुलेख - गुंजीपिथौरागढ़ - तिब्बत
दारमा - नवीधुरापिथौरागढ़ - तिब्बत
मानसया - लम्पियापिथौरागढ़ - तिब्बत
ऊंटापिथौरागढ़ - तिब्बत
जयंतीपिथौरागढ़ - तिब्बत
कुआंरी पासऔली के निकट (चमोली)

 



 


नोट- ये ध्यान देने योग्य बात है कि मानसरोवर यात्रा के लिए प्रयोग किया जाने वाला प्रमुख दर्रा लिपुलेख है जो पिथौरागढ और तिब्बत को जोड़ने का कार्य करता है। ऊंटा, जयंती व किंगरी-बिंगरी दर्रों को सम्मिलित रुप से तीन धूरा कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें – उत्तराखण्ड में मौजूद जल विद्युत परियोजनाएँ और बाँध


उत्तराखण्ड में मौजूद प्रमुख दर्रों की सूची (major passes in Uttarakhand) – यह पोस्ट अगर आप को अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं पेशे से एक journalist, script writer, published author और इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी किताब "दो पल के हमसफ़र " amazon पर उपलब्ध है। आप उसे पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिस है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिस में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके आलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। मेरे बारे में ज्यादा जानने के लिए आप मेरे सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ सकते हैं। :) बोली से गढ़वाली मगर दिल से पहाड़ी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment