Viral News

शीतकाल के लिए बंद हुए भगवान बद्री विशाल के कपाट, आखरी दिन 5 हजार श्रद्धालुओं ने किये दर्शन

बद्रीविशाल
फोटो - अक्षिता

वैकुंठ श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट आज शीतकाल के लिए ठीक 3:35 पर बंद कर दिए गए। भगवान बद्री विशाल के कपाट बंद होते ही उत्तराखंड में स्थित चारों धाम की यात्रा भी आज संपन्न हो गई।  बैकुंठ श्री बद्रीनाथ धाम जिसे मोक्ष धाम के नाम से भी जाना जाता है इस साल कोविड-19 जैसी विश्वव्यापी बीमारी के बाद भी लगभग एक लाख से अधिक श्रद्धालु भगवान बद्रीविशाल के दर्शनों के लिए ग्रीष्म काल में पहुंचे। देखें वीडियो ।



गुरुवार को सुबह से ही भगवान बद्री विशाल के कपाट बंद होने की प्रक्रिया शुरू की गई। लगभग 5:45 बजे से भगवान बद्री विशाल के मंदिर परिसर में बद्रीनाथ धाम के धर्माधिकारी, अपर धर्माधिकारी ,वेद पाठी और मुख्य पुजारी रावल जी गर्भ ग्रह में मौजूद रहे।  कपाट बंद होने के दिन भगवान बद्री विशाल का पुष्प से श्रृंगार किया गया। इस अनुष्ठान के दौरान कपाट बंद होने से पहले उद्धव जी और कुबेर जी की मूर्ति को गर्भ ग्रह से बाहर निकाला जाता है और उसके बाद माता लक्ष्मी को गर्भ ग्रह में भगवान नारायण के साथ विराजमान किया जाता है। जहाँ शीतकाल में भगवान नारद महालक्ष्मी और नारायण की पूजा करते हैं। देखें वीडियो ।                                                            इसे भी पढ़ें – तो भविष्य में इस जगह देंगे भगवान बद्रीविशाल दर्शन। 




कड़ाके की ठंड के बावजूद भी लगभग पांच हजार श्रद्धालु भगवान बद्री विशाल के कपाट बंद होने के अवसर पर बद्रीनाथ धाम पहुंचे। इस दौरान आर्मी के बैंड पर श्रद्धालु झूमते हुए नजर आए। आर्मी के धुन में भगवान बद्रीनारायण के सुंदर भजन गाए गए जिसका तीर्थ यात्रियों ने जमकर लुफ्त उठाया।  मान्यता है कि भगवान बद्री विशाल के कपाट खुलते समय और बंद होते समय आर्मी की खास बैंड धुन बजाई जाती है।



भगवान बद्री विशाल के कपाट बंद होने के बाद ही उद्धव जी और कुबेर जी की मूर्ति योग ध्यान मंदिर पांडुकेश्वर में और शंकराचार्य जी की पावन गद्दी जोशीमठ के नरसिंह मंदिर में विराजमान की जाएगी। वहीं  शीतकाल में भगवान बद्रीविशाल के प्रतिनिधि के रूप में इन सभी देवी देवताओं की पूजा अर्चना शीतकाल में की जाएगी। कपाट बंद होने के दूसरे दिन 20 नवंबर को शंकराचार्य जी की पावन गद्दी और उद्धव और कुबेर जी की मूर्ति पांडुकेश्वर के लिए रवाना होगी।  21 नवंबर को शंकराचार्य जी की पावन गद्दी जोशीमठ में विराजमान की जाएगी। देखें वीडियो। 

इसे भी पढ़ें – 


अगर आपके पोस्ट  अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं पेशे से एक journalist, script writer, published author और इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी किताब "दो पल के हमसफ़र " amazon पर उपलब्ध है। आप उसे पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिस है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिस में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके आलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। मेरे बारे में ज्यादा जानने के लिए आप मेरे सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ सकते हैं। :) बोली से गढ़वाली मगर दिल से पहाड़ी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment