History Uttarakhand

परमार वंश की वंशावली | Genealogy of Parmar Dynasty

परमार वंश की वंशावली

उत्तराखंड के इतिहास में दो वंशों का प्रमुखता से जिक्र किया गया है। इसमें शामिल है गढ़वाल पर राज करने वाले परमार वंश जिसकी नींव राजा कनकपाल ने रखी। वहीं  दूसरा, कुमाऊं पर राज करने वाले चंद वंश जिसकी नींव राजा सोम चंद ने रखी थी। इस पोस्ट में परमार वंश की वंशावली (Genealogy of Parmar Dynasty) का जिक्र है। जो राजा कनकपाल से राजा प्रद्युमन शाह तक दिया गया है।

परमार वंश के राजा कनकपाल जब सत्ता में आए तो उनकी राजधानी चमोली में स्तिथ चांदपुर गढ़ी में थी। चांदपुर गढ़ी में आज भी इस राजवंश के दुर्ग के अवशेष देखने को मिलते हैं। कनकपाल के समय गढ़वाल का यह समस्त क्षेत्र  52 गढ़ों में विभक्त था। इन 52 गढ़ों को परमार वंश के 37वें राजा अजय पाल ने जीता।



परमार वंश के तेज प्रतापी राजा अजय पाल के समस्त 52 गढ़ों  को जीतने के कारण उन्हें गढ़वाला कहा जाने लगा और उनके द्वारा जीता यह समस्त क्षेत्र गढ़वाल कहलाया। राजा अजय पाल ही चांदपुर गढ़ी से राजधानी श्रीनगर ले गए। जहाँ से फिर परमार वंश के बाकी राजाओं ने समस्त गढ़वाल पर राज किया।


 परमार वंश की वंशावली | Genealogy of Parmar Dynasty

परमार वंश की यह वंशावाली (Genealogy of Parmar Dynasty) बैकेट द्वारा दी गयी है। जो महाराज प्रद्युमन शाह तक ही है। प्रद्युमन शाह के वर्ष 1904 खुड़बुड़ा के युद्व में वीरगति को प्राप्त होने के बाद समस्त गढ़वाल पर गोरखाओं का आधिपत्य हो गया। जिसके बाद अंग्रेजो ने गोरखाओं के बीच युद्ध हुआ और 1915 को हुए सिगौली की संधि के बाद समस्त उत्तराखंड पर अंग्रेजों का अधिकार हुआ और प्रद्युमन शाह के पुत्र को श्रीनगर से राजधानी को टिहरी ले जाकर वहां शासन करने लगे।



बैकेट द्वारा उद्घृत परमार/पंवार वंश की वंशावली

बैकेट द्वारा जारी यह परमार वंशावली में परमार वंश के 54वें शासक प्रद्युम्न शाह तक ही जिक्र है। इसके बाद सुदर्शन शाह श्रीनगर से राजधानी टिहरी स्थान्तरित की जिसके बाद के राजाओं का जिक्र इस सारणी के नीचे मिलेगा।
नामशासनकालउम्रमृत्यु की तिथि (सम्वत में )
कनकपाल1151756
श्याम पाल2660782
पदुपाल3145813
अभिगत पाल2531838
सिगलपाल2024858
रत्नपाल4968907
सलिपाल817915
विधिपाल2020935
मदनपाल (प्रथम)1722952
भक्तिपाल2531977
जयचन्द पाल29361006
पृथ्वी पाल24401030
मदन पाल (द्धितीय)22301052
अगस्ती पाल20331072
सूरती पाल22361094
जयन्त सिंह पाल19301113
अनन्त पाल (प्रथम)16241129
आनन्द पाल (प्रथम)12201141
विभोग पाल18221159
सुभजन पाल14201173
विक्रम पाल15241188
विचित्र पाल10231198
हंस पाल11201209
सोन पाल7191216
कदिल पाल5211221
कामदेव पाल15241236
सलाखान पाल18301254
लखन देव23321277
अनन्त पाल (द्धितीय)21291298
पूरब देव16331217
अभय देव7211324
जयराम देव23241347
असल देव9211356
जगत पाल12191368
जीत पाल19241387
आनन्द पाल (द्धितीय)28411415
अजय पाल31591446
कल्याण शाह9401455
सुन्दर पाल15361470
हंसदेव पाल13241484
विजय पाल11211494
सहज पाल36451530
बलभद्र शाह25411555
मान शाह20291575
श्याम शाह9311584
महिपत शाह25651609
पृथ्वी शाह62701671
मेदनी शाह46621717
फतेह शाह48511765
उपेन्द्र शाह1221766
प्रदीप्त शाह63701829
ललिपत शाह8301837
जयकृत शाह6331843
प्रद्युम्न शाह18291861




उम्मीद करता हूँ परमार वंश की वंशावली (Genealogy of Parmar Dynasty)से जुड़ा यह पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा। अगर आपको उत्तराखंड से जुड़े हमारे पोस्ट अच्छे लगते हैं  इन्हें शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं पेशे से एक journalist, script writer, published author और इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी किताब "Kedar " amazon पर उपलब्ध है। आप उसे पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। मेरे बारे में ज्यादा जानने के लिए आप मेरे सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ सकते हैं। :) बोली से गढ़वाली मगर दिल से पहाड़ी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment