Uttarakhand

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान | Rajaji National Park

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान | Rajaji National Park

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित एक प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान है। 1983 में स्थापित, यह पार्क लगभग 820 वर्ग किलोमीटर (317 वर्ग मील) के क्षेत्र में फैला है और इसका नाम एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और भारत के अंतिम गवर्नर-जनरल सी. राजगोपालाचारी के नाम पर रखा गया है। यह हिमालय की शिवालिक श्रृंखला में हरिद्वार, देहरादून और पौरी गढ़वाल जिलों में फैला हुआ है।

Advertisement

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान की मुख्य विशेषताएं:

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान |वन्य जीवन: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान अपनी विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों के लिए जाना जाता है। यह कई प्रतिष्ठित वन्यजीव प्रजातियों का घर है, जिनमें बंगाल टाइगर, भारतीय हाथी, तेंदुए, स्लॉथ भालू, सांभर और चित्तीदार हिरण जैसी हिरण प्रजातियां, हिमालयी काले भालू, लंगूर और बहुत कुछ शामिल हैं। पार्क में 315 से अधिक पक्षी प्रजातियों के साथ एक समृद्ध पक्षी आबादी भी है, जिसमें ग्रेट पाइड हॉर्नबिल, पीले-बिल वाले नीले मैगपाई और कई प्रवासी पक्षी शामिल हैं।

संरक्षित क्षेत्र: पार्क एक महत्वपूर्ण संरक्षित क्षेत्र है जिसका उद्देश्य क्षेत्र की वनस्पतियों, जीवों और पारिस्थितिक तंत्र सहित जैव विविधता का संरक्षण करना है। यह लुप्तप्राय प्रजातियों, विशेष रूप से क्षेत्र में रहने वाले हाथियों और बाघों के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।




परिदृश्य और पर्यावास: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान की विशेषता विविध परिदृश्य और पर्यावास हैं। इसमें हरे-भरे जंगल, घास के मैदान, नदी तल और पहाड़ी इलाके शामिल हैं, जो पार्क की वनस्पतियों और जीवों को पनपने के लिए विभिन्न प्रकार के पारिस्थितिकी तंत्र प्रदान करते हैं। यह पार्क गंगा और उसकी सहायक नदियों, जिनमें सोंग नदी और चिल्ला नदी भी शामिल है, द्वारा विभाजित है, जिससे इसकी प्राकृतिक सुंदरता और बढ़ जाती है।

हाथी रिजर्व: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान को हाथी रिजर्व के रूप में मान्यता प्राप्त है, जो भारतीय हाथियों के संरक्षण और सुरक्षा में इसके महत्व को दर्शाता है। पार्क इन सौम्य दिग्गजों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है, उन्हें उपयुक्त आवास प्रदान करता है और उनके दीर्घकालिक अस्तित्व को सुनिश्चित करता है।

साहसिक गतिविधियाँ: पार्क जंगल सफारी, बर्डवॉचिंग, ट्रैकिंग और प्रकृति की सैर सहित विभिन्न साहसिक गतिविधियों के अवसर प्रदान करता है। जंगल सफ़ारी, चाहे जीप से या हाथी की पीठ पर, पार्क के जंगल का पता लगाने और इसके वन्यजीवों को उनके प्राकृतिक आवास में देखने का एक उत्कृष्ट अवसर प्रदान करती है।

कनेक्टिविटी और पहुंच: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान उत्तराखंड के प्रमुख शहरों से आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह हरिद्वार से लगभग 15 किलोमीटर (9 मील) और देहरादून से लगभग 30 किलोमीटर (19 मील) दूर स्थित है। निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जबकि निकटतम रेलवे स्टेशन हरिद्वार और देहरादून हैं।

प्राकृतिक और सांस्कृतिक महत्व: अपनी प्राकृतिक सुंदरता और वन्य जीवन के अलावा, राजाजी राष्ट्रीय उद्यान सांस्कृतिक महत्व रखता है क्योंकि यह पवित्र शहर हरिद्वार के करीब स्थित है, जो हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। पार्क के विविध पारिस्थितिक तंत्र और परिदृश्य इसके पारिस्थितिक महत्व में भी योगदान करते हैं।




राजाजी राष्ट्रीय उद्यान क्यों प्रसिद्ध है:

बंगाल टाइगर्स: यह पार्क बंगाल टाइगर्स की आबादी के लिए जाना जाता है, जो भारत में सबसे प्रतिष्ठित और लुप्तप्राय प्रजातियों में से एक हैं। इन राजसी बड़ी बिल्लियों को उनके प्राकृतिक आवास में देखना आगंतुकों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है।

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान |भारतीय हाथी: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान भारतीय हाथियों की आबादी के लिए प्रसिद्ध है। पार्क इन सौम्य दिग्गजों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है, उन्हें पनपने के लिए एक संरक्षित आवास प्रदान करता है।

विविध वन्य जीवन: यह पार्क विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है। बाघों और हाथियों के अलावा, इसमें विभिन्न प्रकार की वन्यजीव प्रजातियाँ शामिल हैं, जिनमें तेंदुए, स्लॉथ भालू, सांभर और चित्तीदार हिरण जैसी हिरण प्रजातियाँ, हिमालयी काले भालू, लंगूर और कई पक्षी प्रजातियाँ शामिल हैं। वन्यजीवों की प्रचुरता इसे वन्यजीव प्रेमियों और प्रकृति प्रेमियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य बनाती है।

एवियन जनसंख्या: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान 315 से अधिक पक्षी प्रजातियों के साथ एक समृद्ध एवियन आबादी का दावा करता है। पक्षी देखने के शौकीन सर्दियों के महीनों के दौरान विभिन्न प्रकार के पक्षियों को देख सकते हैं, जिनमें ग्रेट पाइड हॉर्नबिल, येलो-बिल्ड ब्लू मैगपाई, हिमालयन पाइड किंगफिशर और कई प्रवासी पक्षी शामिल हैं।

प्राकृतिक सौंदर्य: यह पार्क हिमालय की शिवालिक श्रृंखला में बसा हुआ है, जो लुभावने परिदृश्य और प्राकृतिक सुंदरता पेश करता है। इसमें हरे-भरे जंगल, घुमावदार पहाड़ियाँ, नदी तल और खुले घास के मैदान शामिल हैं, जो आगंतुकों को आनंद लेने के लिए एक सुरम्य वातावरण प्रदान करते हैं।

साहसिक गतिविधियाँ: राजाजी नेशनल पार्क विभिन्न साहसिक गतिविधियों जैसे जंगल सफारी, बर्डवॉचिंग, ट्रैकिंग और प्रकृति की सैर के अवसर प्रदान करता है। जीप सफारी या हाथी सफारी के दौरान पार्क के जंगल की खोज और वन्य जीवन को देखना आगंतुकों के लिए लोकप्रिय अनुभव है।

हाथी रिजर्व: पार्क को हाथी रिजर्व के रूप में मान्यता प्राप्त है, जो भारतीय हाथियों की आबादी के संरक्षण और सुरक्षा में इसके महत्व पर जोर देता है। यह इन भव्य प्राणियों के लिए एक महत्वपूर्ण आवास के रूप में कार्य करता है और उनके दीर्घकालिक अस्तित्व में योगदान देता है।

कनेक्टिविटी और पहुंच: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान उत्तराखंड के प्रमुख शहरों से आसानी से पहुंचा जा सकता है, जो इसे पर्यटकों के लिए एक सुविधाजनक स्थान बनाता है। एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल हरिद्वार से इसकी निकटता इसके आकर्षण को बढ़ाती है।




राजाजी नेशनल पार्क में कौन कौन से जानवर हैं ?

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान विभिन्न प्रकार की पशु प्रजातियों का घर है। पार्क में पाए जाने वाले कुछ प्रमुख जानवरों में शामिल हैं:

बंगाल टाइगर (पैंथेरा टाइग्रिस टाइग्रिस): यह पार्क बंगाल टाइगर्स की आबादी के लिए जाना जाता है, जो राजसी बड़ी बिल्लियाँ हैं और पार्क का गौरव हैं।

भारतीय हाथी (एलिफस मैक्सिमस इंडिकस): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान भारतीय हाथियों की आबादी के लिए प्रसिद्ध है। इन सौम्य दिग्गजों को पार्क के भीतर एक सुरक्षित आवास मिलता है।

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान |तेंदुआ (पेंथेरा पार्डस): अपनी मायावी प्रकृति के लिए जाने जाने वाले तेंदुए पार्क के घने जंगलों में पाए जा सकते हैं।

स्लॉथ भालू (मेलर्सस उर्सिनस): स्लॉथ भालू, जो अपने झबरा कोट और लंबे पंजे की विशेषता रखते हैं, पार्क के जंगलों और घास के मैदानों में रहते हैं।

सांभर हिरण (रूसा यूनिकलर): सांभर हिरण, भारत में हिरणों की सबसे बड़ी प्रजाति है, जो आमतौर पर पार्क में देखी जाती है। वे अपने बड़े सींगों और लाल-भूरे बालों के लिए जाने जाते हैं।

चित्तीदार हिरण (एक्सिस अक्ष): चित्तीदार हिरण, जिसे चीतल के नाम से भी जाना जाता है, राजाजी राष्ट्रीय उद्यान में पाई जाने वाली एक अन्य सामान्य हिरण प्रजाति है। उनके लाल-भूरे रंग के कोट पर सुंदर सफेद धब्बे होते हैं।

हिमालयी काला भालू (उर्सस थिबेटानस): यह पार्क हिमालयी काले भालू का घर है, जो अपने काले फर और विशिष्ट वी-आकार की छाती के निशान के लिए जाने जाते हैं।

लंगूर: लंगूर, एक प्रकार का बंदर, पार्क के जंगलों में देखा जा सकता है। वे अपनी लंबी पूंछ और भूरे फर के लिए जाने जाते हैं।

जंगली सूअर (सस स्क्रोफ़ा): जंगली सूअर, अपने रोएंदार बालों और दाँतों के साथ, पार्क के घास के मैदानों और जंगली इलाकों में पाए जाते हैं।

असंख्य पक्षी प्रजातियाँ: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान 315 से अधिक पक्षी प्रजातियों के साथ एक समृद्ध पक्षी आबादी का दावा करता है। इसमें ग्रेट पाइड हॉर्नबिल, येलो-बिल्ड ब्लू मैगपाई, हिमालयन पाइड किंगफिशर और विभिन्न प्रवासी पक्षी शामिल हैं।

 

राजाजी राष्ट्रीय पार्क में करने के लिए मुख्य चीजें –

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान का दौरा करते समय, आप कई गतिविधियों और अनुभवों का आनंद ले सकते हैं। यहां पार्क में करने योग्य कुछ चीज़ें दी गई हैं:

जंगल सफारी: राजाजी नेशनल पार्क के जंगल का पता लगाने के लिए एक रोमांचक जंगल सफारी पर निकलें। जीप सफ़ारी सबसे आम विकल्प है, जो आपको पार्क के मुख्य क्षेत्रों में गहराई तक जाने और वन्यजीवों को देखने की संभावना बढ़ाने की अनुमति देता है। बाघ, हाथी, तेंदुए, हिरण जैसे जानवरों और विभिन्न पक्षी प्रजातियों को उनके प्राकृतिक आवास में देखने के रोमांच का आनंद लें।

हाथी सफारी: हाथी की पीठ पर सवारी करने और पार्क के घने जंगलों और घास के मैदानों की खोज करने का अनूठा अवसर अनुभव करें। हाथी सफ़ारी एक अलग दृष्टिकोण और वन्य जीवन के साथ घनिष्ठ मुठभेड़ प्रदान करती है।




पक्षी अवलोकन: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान पक्षी प्रेमियों के लिए स्वर्ग है। निवासी और प्रवासी पक्षी प्रजातियों सहित अपनी विविध पक्षी आबादी के साथ, पार्क पक्षियों को देखने के उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है। ग्रेट पाइड हॉर्नबिल, येलो-बिल्ड ब्लू मैगपाई, हिमालयन पाइड किंगफिशर और विभिन्न अन्य पक्षी प्रजातियों को देखने के लिए अपनी दूरबीन तैयार रखें।

प्रकृति की सैर और ट्रैकिंग: इत्मीनान से प्रकृति की सैर करें या पार्क के भीतर ट्रैकिंग गतिविधियों में शामिल हों। निर्देशित प्रकृति सैर पार्क की प्राकृतिक सुंदरता में डूबने, वनस्पतियों और जीवों को करीब से देखने और अनुभवी गाइडों से पार्क के पारिस्थितिकी तंत्र के बारे में जानने का अवसर प्रदान करती है।

गंगा और चिल्ला नदी की यात्रा करें: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान गंगा और उसकी सहायक नदियों से घिरा है, जिसमें सोंग नदी और चिल्ला नदी भी शामिल हैं। नदी के किनारे कुछ समय बिताएं, शांत दृश्यों का आनंद लें और पिकनिक, बर्डवॉचिंग या शांत वातावरण में आराम करने जैसी गतिविधियों में शामिल हों।

वन्यजीव फोटोग्राफी: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान वन्यजीव फोटोग्राफी के लिए उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है। पार्क के विविध जीव-जंतुओं, राजसी बाघों, हाथियों, पक्षियों और अन्य वन्यजीव प्रजातियों के आश्चर्यजनक चित्र कैप्चर करें। हालाँकि, सुनिश्चित करें कि आप सुरक्षित दूरी बनाए रखें और जानवरों को परेशान न करें।

आश्रमों और मंदिरों की यात्रा करें: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान पवित्र शहर हरिद्वार के निकट स्थित है। प्राचीन आश्रमों, मंदिरों का दौरा करके और गंगा नदी के घाटों पर शाम के गंगा आरती समारोह में भाग लेकर क्षेत्र के आध्यात्मिक पक्ष का अन्वेषण करें।

प्रकृति और विश्राम का आनंद लें: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान एक शांत और शांत वातावरण प्रदान करता है। प्रकृति के बीच आराम करने के लिए कुछ समय निकालें, सुंदर परिदृश्यों की सराहना करें और पार्क से मिलने वाली शांति का आनंद लें।

 

राजाजी नेशनल पार्क में बुकिंग और अन्य जानकारी

राजाजी नेशनल पार्क में सफारी बुक करने के लिए, आप इन चरणों का पालन कर सकते हैं:

आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ: राजाजी नेशनल पार्क की आधिकारिक वेबसाइट या उत्तराखंड वन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर शुरुआत करें। ये वेबसाइटें पार्क, सफारी विकल्पों और बुकिंग प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्रदान करती हैं।

सफ़ारी प्रकार का चयन करें: तय करें कि आप किस प्रकार की सफ़ारी बुक करना चाहते हैं। विकल्पों में आमतौर पर जीप सफारी और हाथी सफारी शामिल हैं। जीप सफ़ारी सबसे आम और लचीला विकल्प है, जबकि हाथी सफ़ारी हाथी की पीठ पर पार्क की खोज का एक अनूठा अनुभव प्रदान करती है।

उपलब्धता जांचें: अपनी पसंदीदा तारीख और समय के लिए सफारी स्लॉट की उपलब्धता जांचें। पहले से ही बुकिंग करने की सलाह दी जाती है, खासकर चरम पर्यटन सीजन या सप्ताहांत के दौरान, क्योंकि सफारी स्लॉट जल्दी भर सकते हैं।




बुकिंग विधि: राजाजी नेशनल पार्क में सफारी बुक करने के लिए आमतौर पर दो तरीके हैं:

एक। ऑनलाइन बुकिंग: यदि ऑनलाइन बुकिंग उपलब्ध है, तो ऑनलाइन बुकिंग प्रक्रिया के साथ आगे बढ़ें। आवश्यक विवरण दर्ज करें, जैसे प्रतिभागियों की संख्या, पसंदीदा सफारी प्रकार, तिथि और समय स्लॉट। निर्देशों का पालन करें और अपनी बुकिंग की पुष्टि करने के लिए ऑनलाइन भुगतान करें। आपको ईमेल के माध्यम से ई-टिकट या बुकिंग की पुष्टि प्राप्त हो सकती है, जिसे आपको सफारी के दिन अपने साथ रखना चाहिए।

बी। ऑन-साइट बुकिंग: यदि ऑनलाइन बुकिंग उपलब्ध नहीं है या आप साइट पर बुकिंग करना पसंद करते हैं, तो आप सीधे पार्क के निर्दिष्ट सफारी बुकिंग कार्यालय या गेट पर जा सकते हैं। कार्यालय में एक काउंटर या बुकिंग विंडो होगी जहां आप उपलब्ध सफारी स्लॉट के बारे में पूछताछ कर सकते हैं और व्यक्तिगत रूप से अपनी बुकिंग कर सकते हैं। आवश्यक शुल्क का भुगतान करें, आवश्यक विवरण प्रदान करें, और अपना सफारी परमिट प्राप्त करें।

पहचान और परमिट: आईडी कार्ड या पासपोर्ट जैसे वैध पहचान दस्तावेज अपने साथ रखें, क्योंकि सफारी के दौरान परमिट सत्यापन के लिए इनकी आवश्यकता हो सकती है। सुनिश्चित करें कि पार्क में प्रवेश करने से पहले आपके पास आवश्यक परमिट और कागजी कार्रवाई हो।

एक गाइड किराए पर लें: पार्क अधिकारियों या सफारी बुकिंग कार्यालय से एक प्रशिक्षित गाइड किराए पर लेने की सलाह दी जाती है। सफारी के दौरान गाइड आपका साथ देगा, पार्क के वन्य जीवन और सुरक्षा दिशानिर्देशों के बारे में जानकारी प्रदान करेगा और आपके सफारी अनुभव को बढ़ाएगा।

सफ़ारी का समय और अवधि: अपने चुने हुए सफ़ारी प्रकार के लिए निर्दिष्ट सफ़ारी समय और अवधि से खुद को परिचित करें। समय के पाबंद रहें और निर्धारित सफारी मीटिंग प्वाइंट या प्रवेश द्वार पर पहले ही पहुंच जाएं।

अपनी सफ़ारी का आनंद लें: अपनी सफ़ारी के दिन, अपना सफ़ारी परमिट या ई-टिकट पेश करें, पार्क अधिकारियों या अपने गाइड द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें, और राजाजी नेशनल पार्क में अपने रोमांचक वन्यजीव साहसिक कार्य पर निकल पड़ें। पार्क के वन्य जीवन को देखें, प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लें और यादगार पलों को कैद करें।



राजाजी नेशनल पार्क में जाने के लिए प्रवेश द्वार

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान में कई प्रवेश द्वार हैं जो पार्क के विभिन्न क्षेत्रों तक पहुंच प्रदान करते हैं। प्रवेश द्वार का चुनाव उस क्षेत्र पर निर्भर करता है जिसे आप देखना चाहते हैं और जिस सफारी अनुभव की आप इच्छा रखते हैं। यहाँ राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के मुख्य प्रवेश द्वार हैं:

चिल्ला प्रवेश द्वार: चिल्ला प्रवेश द्वार पार्क के पूर्वी हिस्से में स्थित है और चिल्ला रेंज तक पहुंच प्रदान करता है। यह रेंज हाथियों, बाघों, तेंदुओं और विभिन्न पक्षी प्रजातियों सहित अपने विविध वन्य जीवन के लिए जानी जाती है। चिल्ला रेंज लोकप्रिय चिल्ला बांध और गंगा नदी का भी घर है, जहां आप सुंदर दृश्यों का आनंद ले सकते हैं और जल-आधारित गतिविधियों में संलग्न हो सकते हैं।

रानीपुर प्रवेश द्वार: रानीपुर प्रवेश द्वार पार्क के दक्षिणी किनारे पर स्थित है और रानीपुर रेंज में प्रवेश प्रदान करता है। यह रेंज अपने सुरम्य परिदृश्य और प्रचुर वन्य जीवन के लिए जानी जाती है। यह जीप सफ़ारी के लिए एक लोकप्रिय क्षेत्र है और हाथियों, बाघों, तेंदुओं, हिरणों और पक्षियों को देखने का अवसर प्रदान करता है।

मोतीचूर प्रवेश द्वार: मोतीचूर प्रवेश द्वार पार्क के उत्तरी किनारे पर स्थित है और मोतीचूर रेंज तक पहुंच प्रदान करता है। यह रेंज हाथियों, बाघों, तेंदुओं, हिरणों, लंगूरों और पक्षियों सहित अपनी विविध वनस्पतियों और जीवों के लिए जानी जाती है। मोतीचूर रेंज मोतीचूर वन्यजीव बचाव केंद्र का भी घर है, जहां बचाए गए जानवरों का पुनर्वास किया जाता है।

आपकी प्राथमिकताओं के अनुरूप प्रवेश द्वार का निर्धारण करने के लिए, उस वन्य जीवन पर विचार करने की अनुशंसा की जाती है जिसका आप सामना करना चाहते हैं, जिस सफारी अनुभव की आप इच्छा रखते हैं, और वह क्षेत्र जो आपकी रुचियों के अनुरूप है। आप प्रवेश द्वारों, क्षेत्रों और उनसे संबंधित पेशकशों पर नवीनतम जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट देख सकते हैं या पार्क अधिकारियों से संपर्क कर सकते हैं।



राजाजी नेशनल पार्क में जाने के लिए जाने के लिए  साधन

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान तक पहुँचने के लिए, आप इन परिवहन विकल्पों का पालन कर सकते हैं:

हवाई मार्ग से: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 20 किलोमीटर (12 मील) दूर है। यह दिल्ली और मुंबई जैसे भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हवाई अड्डे से, आप पार्क तक पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या प्री-पेड टैक्सी ले सकते हैं।

ट्रेन द्वारा: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान का निकटतम रेलवे स्टेशन हरिद्वार जंक्शन है, जो लगभग 10 किलोमीटर (6 मील) दूर स्थित है। हरिद्वार दिल्ली, मुंबई और कोलकाता सहित भारत के विभिन्न शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। रेलवे स्टेशन से, आप पार्क तक पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या स्थानीय बस ले सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा: राजाजी राष्ट्रीय उद्यान उत्तराखंड और पड़ोसी राज्यों के प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग 34 पर स्थित है, जो हरिद्वार से होकर गुजरता है और देहरादून और ऋषिकेश जैसे शहरों से जुड़ता है। आप आसपास के शहरों और कस्बों से निजी कार, टैक्सी या राज्य द्वारा संचालित बसों द्वारा पार्क तक पहुँच सकते हैं।

 


अगर आपको उत्तराखंड से सम्बंधित यह पोस्ट अच्छी  लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी बड़ी और छोटी कहानियाँ Amozone पर उपलब्ध है। आप उन्हें पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment

You cannot copy content of this page