Top Post

गोलू देवता
Story Uttarakhand

गोलू देवता : कुमाऊँ में प्रसिद्ध इस न्याय के देवता की सच्ची कहानी

गोलू देवता जिन्हें न्याय का देवता भी कहा जाता है।  जब मानवों की न्याय व्यवस्था से लड़ने के बाद भी किसी को न्याय ना मिले तो वे गोलू देवता की शरण में...

दयारा बुग्याल ट्रेक
Travel Uttarakhand

दयारा बुग्याल ट्रेक, उत्तरकाशी | Dayara Bugyal Trek Uttarakhand

उत्तराखण्ड घूमने फिरने के शौकीन घुमन्तूओं के लिए एक आदर्श राज्य है। यहाँ हर जिले में मंदिरों के अतिरिक्त कुछ ना कुछ एक ऐसा पर्यटक स्थल होता है जो...

Entertainment

Advertisement

Advertisement

Popular This Week

Latest Articles

कुमाऊंनी संस्कृति
Culture Uttarakhand

क्या आप जानते हैं? उत्तराखण्ड के वे देवता और त्यौहार जिनका मूल नेपाल है!

उत्तराखण्ड में यूं तो कई तीज त्यौहार मनाए जाते हैं। जिनका हमारी संस्कृति और बरसों से समेटी गई विरासत से गहरा संबंध है। मगर क्या आप जानते हैं कि हमारी...

कसार देवी मंदिर
Temple Uttarakhand

कसार देवी मंदिर, अल्मोड़ा | Kasar Devi Temple

उत्तराखण्ड जो आदिकाल से हिन्दू संस्कृतियों की सबसे पुरानी तपस्थली है। यहाँ बहुत से ऐसे मंदिर हैं जिसकी मान्यताएँ पौराणिक काल से चली आ रही है। और बहुत...

उत्तराखण्ड के प्रागैतिहासिक काल
History Uttarakhand

उत्तराखण्ड के प्रागैतिहासिक काल का सम्पूर्ण अध्ययन पढ़ें

उत्तराखण्ड के प्रागैतिहासिक काल के दौरान वे वस्तुएँ, मृदभांड, गुफाचित्र या शवाधान आते हैं जो उत्तराखण्ड में रहने वाले बरसों पुराने इतिहास का जिक्र...

उत्तराखण्ड की प्रमुख जनजातियाँ
Culture Uttarakhand

उत्तराखण्ड की प्रमुख जनजातियाँ | Major tribes of Uttarakhand

जनजातियाँ किसी भी समाजिक परिवेश का वह हिस्सा होती हैं जिनकी परंपराएं और संस्कृति उस राज्य के बहुल जातियों से अलग होती हैं। इनके लिए सामान्यतः...

कत्यूरी वंश या कार्तिकेयपुर राजवंश
History Uttarakhand

कत्यूरी वंश या कार्तिकेयपुर राजवंश का उत्तराखण्ड में शासन

उत्तराखण्ड में कुणिन्द और कुषाणों के शासन के बाद कार्तिकेयपुर राजवंश का उदय हुआ। जिसे कत्यूरी वंश के नाम से भी उत्तराखण्ड के इतिहास में जाना जाता है।...

उत्तराखण्ड "गढ़राज्य" के एतिहासिक 52 गढ़ों के नाम
History Uttarakhand

उत्तराखण्ड “गढ़राज्य” के एतिहासिक 52 गढ़ों के नाम

उत्तराखण्ड में परमार वंश के उदय से पहले गढ़राज्य 52 गढ़ों में बंटा हुआ था। सर्वप्रथम राजा सोनपाल ने जब अपनी पुत्री का विवाह गुजरात से आए राजा कनकपाल...

टिंचरी माई
Story Uttarakhand

टिंचरी माई – एक जीवन संघर्ष | उत्तराखंड में शराब मुक्ति की प्रेणता

वो कहावत तो सुनी ही होगी सुरज अस्त पहाड़ी मस्त। नहीं सुनी है तो अब सुन लीजिये, क्योंकि पहाड़ों में शराब उस कडवी दवा की तरह है जिसे तो पसंद कोई नहीं...

उत्तराखण्ड में गोरखा शासन
History Uttarakhand

उत्तराखण्ड में गोरखा शासन | Gurkha rule in Uttarakhand

उत्तराखण्ड के इतिहास में गढ़राज्यों के गोरखाओं से हारने के बाद समस्त उत्तराखण्ड में गोरखा शासन का उदय हुआ। इसका प्रमुख कारण 1790 ई० में चन्द वंश के...

टपकेश्वर महादेव मंदिर
Temple Uttarakhand

टपकेश्वर महादेव मंदिर – जिस गुफा में कभी शिवलिंग पर दुग्ध गिरता था |

टपकेश्वर महादेव मंदिर |Tapkeshwar Mahadev Temple  उत्तराखंड की अस्थाई राजधानी देहरादून में एक स्थान ऐसा भी है जिसकी कथा महाभारत काल से जुड़ी है और...

वीर चंद्र सिंह गढ़वाली
History Uttarakhand

वीर चंद्र सिंह गढ़वाली-जिनका गढ़वाल में प्रवेश था प्रतिबंधित

गढ़वाल  राइफल्स का वो जवान जिसने प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान अंग्रेजों की ओर से मेसोपोटामिया के युद्ध में भाग लिया, ओर अंग्रेजों को जीत दिलाई। वो वीर...

Advertisement