Category - Blog

Blog

भारत में वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य पर निबंध

भारत में वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य वर्तमान में भारत की राजनैतिक वस्तु संरचना यही है कि वह उदारवाद, मार्कसवाद, साम्यवाद, समाजवाद से कई दूर निकल आया है। कई...

Blog Culture guest post

गढ़वाल की लोकगाथायें एवं उनकी पृष्ठभूमि

किसी भी राज्य की संस्कृति और लोकसाहित्य, उस देश के प्रत्येक जीव का प्रतिबिम्ब है. लोकसाहित्य में जनता के जीवन का. उसके डास-विलास का व्यक्ति की प्रत्येक दशा और...

Blog Uttarakhand

केदारनाथ हेलिकॉप्टर सेवा | बुकिंग, किराया और आसान रूट सब कुछ इस पोस्ट में | Helicopter booking for Kedarnath 2022

केदारनाथ हेलीकॉप्टर सेवा (Helicopter booking for Kedarnath 2022) केदारनाथ हेलीकॉप्टर किराये 2022- उत्तराखडं में हिन्दुओं के सबसे बड़े धार्मिक स्थल चार धाम के...

Blog Uttarakhand

यकुलाँस – पहाड़ के भूतहा गांवों से टकराकर लौटी आवाज सा है..

कला को देखते तो सब हैं मगर उसे देखने, समझने का नजरिया विकसित करने से लेकर और हमारे जीवन के तमाम हलचलों की छाया का प्रतिबिंब उसमें दिखाना एक अद्भुत कलाकार की...

Blog Uttarakhand

उत्तराखंड मांगे भू कानून – आखिर क्यों जरूरी है ये नारा? – दीपक बिष्ट

उत्तराखंड जिसकी नींव ही जल, जंगल और जमीन पर रखी गयी। आदाजी के बाद जिस राज्य की मांग को लेकर स्थानीय निवासियों ने अपना सर्वस्व बलिदान किया। यूपी की क्रूरतम और...

Blog

धार्मिक और समाजिक सुधार आंदोलनों का भारत की आज़ादी में योगदान – दीपक बिष्ट

किसी भी राष्ट्र का विकास तभी संभव है जब हम रूढ़िवादी दकियानुसी विचारों और सामजिक भेदभाव को पीछे छोड़ नई सोच के साथ आगे बढ़ते हैं। समाज के हर तबके, हर वर्ग, हर...

guest post Blog

उत्तराखंड के लोकगीत एवं उनका महत्त्व

लोकगीत, लोकमानस की एक तरंगायित अभिव्यक्ति होती है। लोकगीतों ने मानव विकास के सापेक्ष मानसिक विकास के द्वारा समाज में अपने अस्तित्व को मुखर किया है।  लोकगीत लोक...

Uttarakhand Blog

केदारनाथ आपदा : 16 जून 2013 की वो भयानक रात

उत्तराखंड की वादियों का नशा कुछ ऐसा है जो यहां आता है यहीं का होकर रह जाता है। सुन्दर झरने, नीला आसमान, बदन को छूती मद्धम हवा और बर्फीली चोटियां। ऐसा लगता है...

Blog

आपको लिखना क्यों चाहिए? इससे जरुरी बात, आपको मुझे क्यों पढ़ना चाहिए

बीस बरस बस इतना ही देखा था उसे। हर रोज जब स्कूल से घर, घर से स्कूल को गुजरता तो उसके बारे में सुनकर, कदम ठहर जाते और कुछ टूटा-फूटा सा सुनने को मिलता।...

You cannot copy content of this page