Health

क्या खाना नींद को प्रभावित करता है? | Does Food affects sleep?

Does Food affects sleep?

क्या आपको  नींद  कम आती है?  क्या आप बहुत जंक फूड हो ? क्या दिन भर काम से थक जाने के बाद व् रात महज दो तीन घंटे ही सो पते हो ? क्या आपको लगता है इन सब का कारण आपका खाना (food) है। अगर आप भी यही लगता है तो आप बिलकुल सही सोच रहो हो। खाना आपकी नींद को प्रभावित करता है (Does Food affects sleep?)

कहते हैं कि एक स्वास्थय शरीर (Healthy Body) के लिए आवश्यक है स्वास्थय जीवन शैली (Healthy Lifestyle) व बेहतर नींद । पर रोजाना के इस भाग दौड़ भरी जिंदगी‌ में हम समय से आगे भागने की जद्दोजहद में तेज और तेज होने का‌ प्रयास करते रहते हैं। इस दौड़ में हम कहीं ना कहीं खुद को झूठला रहे हैं कि यदि‌ हम तेज भागगें तो कई अवसरों को पकड़ सकते हैं। इस चक्कर में हम खुद को एक ऐंसी जीवनशैली में ला खड़ा कर देते हैं जहाँ तनाव हर कदम पर हमारा साथी बन जाता है। इस जीवनशैली में ना स्वास्थ्य भोजन के प्रति हम सजग रहते हैं ना एक बेहतर नींद के प्रति। इसी कारण मानव शरीर बिना बेहतर पोषण व नींद के विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित होने‌ लगता है। शोध बताते हैं कि मानव शरीर एक अच्छी नींद ना लेने के कारण विभिन्‍न प्रकार की बिमारियों का घर हो रहा है। जिसमें अवसाद, तनाव, कमजोर पाचन शक्ति और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर गहरा असर आदि शामिल हैं।

पर क्या आपको पता है आपके द्धारा किया गया भोजन भी आपकी नींद को प्रभावित करता है?


हम रोजाना तरह-तरह के भोजन (food) को खाते हैं जिसमें परंपरागत भोजन (food) के‌ अलावा पैकेट फूड (packet food), स्टाल फूड ( stall food), जंक फूड (junk food) और विभिन्न प्रकार के पेय पदार्थ (drinks) शामिल हैं। ये भोजन (food) ना सिर्फ हमारे पाचनतंत्र को प्रभावित करते हैं बल्कि हमारी नींद पर भी गहरा प्रभाव डालते हैं।
युवाओं के भोजन और नींद के पैटर्न पर किया गया एक शोध बताता है कि पूरे दिन हमारे द्धारा किया गया भोजन हमारे नींद को प्रभावित करता है। जिसमें कि कम फाइबर (Fibar) युक्त भोजन, संतृप्त वसा युक्त और ज्यादा सूगर वाला भोजन कम नींद और रात्रि में ज्यादा जागने के लिए उत्तरदायी है। मानव शरीर द्धारा 24 घंटों में किया गया भोजन और उसका स्वरुप ही हमारे स्वास्थ्य को बनाए रखता है।

हम रोजाना के काम काज में चाय और कॉफ़ी (coffee) का भी अधिक सेवन करते हैं जिसमें मौजूद कैफीन (Caffin)  शरीर व दिमाग को जगाए रखने पर मजबूर करता है। वहीं इनका ज्यादा सेवन अनिद्रा का एक महत्वपूर्ण कारण है। शोध बताता है कि कम नींद और अनिद्रा ज्यादा भूख के लिए भी उत्तरदायी है। इसके अलावा ज्यादा तीखा और वसा युक्त भोजन भी हमारे पाचनतंत्र को प्रभावित करता है जिसकी वजह से पाचन की लंबी क्रिया हमारे शरीर को आराम नहीं करने देती। इसके अलावा सूगर युक्त पदार्थों के अत्यधिक सेवन व शराब अत्यधिक पीने से भी नींद प्रभावित होती है। इसलिए एक बेहतर नींद के लिए आवश्यक है कि एक बेहतर व स्वस्थ भोजन से युक्त जीवन शैली (life style) को अपनाया जाए।

 

 

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलिए।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं पेशे से एक journalist, script writer, published author और इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी किताब "Kedar " amazon पर उपलब्ध है। आप उसे पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। मेरे बारे में ज्यादा जानने के लिए आप मेरे सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ सकते हैं। :) बोली से गढ़वाली मगर दिल से पहाड़ी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment