Q&A

नौला या बावड़ी क्या है? | Nola ya Bawri kya hai ?

नौला या बावड़ी

Advertisement
प्रायः ऐसे जलस्रोत पर निर्मित होते हैं जो निचली घाटियों के समतप ढलानों में स्थित हो और पानी जमीन के भीतर स्त्रोत से रिसकर बाहत आता हो। इसके चारों ओर से पत्थर की दीवार से आवृत कर ऊपर छत डाल दी जाती है। पानी वर्गाकार सीढ़ीदार बावड़ी में एकत्रित होता है।



इन सीढ़ियों को इस प्रकार बनाया जाता है पत्थरों की बीच की दिवारों से रिसकर स्त्रोत का पानी बावड़ी में इकट्ठा होता रहे। अने नौलों में स्नानागार अथवा बैठने के चबूतरे भी निर्मित किये जाते हैं। नौलों के निकट अधिकांशतः पीपल, बड़ जैसे छायादार और धार्मिक रूप में पवित्र रूप में समझे जाने वाले वृक्षों को लगाया जाता है।

 


यह पोस्ट अगर आप को अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें। साथ ही हमारी अन्य वेबसाइट को भी विजिट करें। 

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी बड़ी और छोटी कहानियाँ Amozone पर उपलब्ध है। आप उन्हें पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment

You cannot copy content of this page