Uttarakhand

संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग

अलकनंदा और मन्दाकिनी के संगम तट पर स्तिथ रुद्रप्रयाग में विद्यार्थियों और शोधार्थियों के पठन-पाठन के लिए संगम पुस्तकालय खोला गया है। यह पुस्तकालय बदरीनाथ-केदारनाथ मुख्य राजमार्ग में  मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय के पास स्तिथ है।  पुस्तकालय अंदर से बहुत ही शानदार है और यहाँ बैठने की भी पूर्ण व्यवस्था है। साथ ही बिजली, पानी, और शौचालय की भी सुविधा है। आप चाहें तो घंटों बैठकर शांति के साथ पढ़ने का आनंद ले सकते हैं।  पुस्तकालय शुल्क महज 200 रूपये है। आपको बस अपने आधारकार्ड की फोटोकॉपी के साथ पंजीकरण करके इस नवीन पुस्तकालय का लाभ उठाना है। 

Advertisement

संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग | Sangam Library Rudraprayag 

सुविधा विवरण
नाम  संगम पुस्तकालय 
पता  मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय रुद्रप्रयाग के निकट 
संचालन का समय 9:30 बजे से 5:30 बजे तक (रविवार अवकाश /सरकारी अवकाश व महीने के दूसरे शनिवार बंद रहेगा )
सीटिंग क्षमता 40
पुस्तक  संग्रह जल्द ही उपलब्ध होगी 
फीस  200 रूपये
इंटरनेट  जल्द जोड़ा जाएगा 
पंजीकरण  आधार कार्ड की फोटो कॉपी जमा करे 

 

पुस्तकें 

रुद्रप्रयाग के केंद्र में रणनीतिक रूप से स्थित होने के कारण, संगम पुस्तकालय स्थानीय लोगों और आगंतुकों के लिए सहज पहुंच की सुविधा देता  है। इस पुस्तकालय में एनसीईआरटी की  छठवीं से बारहवीं तक की पुस्तकों  समेत उत्तराखंड और केंद्र की कॉम्पिटेटिव एग्जाम की पुस्तकों को भी जल्द ही उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके अतिरिक्त यहाँ साहित्य से जुड़ी पुस्तकों का भी जल्द ही संग्रह किया जाएगा। 

सुविधा

संगम पुस्तकालय में अत्यंत शांति और ज्ञान का अनूठा संगम है। यहाँ पाठ्य पुस्तकों और पत्रिकाओं के साथ-साथ विद्यार्थियों व शोधार्थियों की सुविधा का भी ख्याल रखा गया है। यहाँ एक वक्त पर 40 लोगों की बैठने की सुविधा है। वहीं बैठने के लिए आरामदायक कुर्सियां और डेस्क हैं। साथ ही लाइट, चार्जिंग पॉइंट, फैन की भी सुविधा है। वहीं जिला शिक्षा अधिकारी के प्रयासों से आने वाले समय में बैठने के शेड का भी निर्माण किया जाएगा ताकि पाठक दोपहर में आराम से बैठकर भोजन कर सके या फिर टहल कर या बैठकर दिमाग को आराम दे सकें। वहीं पुस्तकालय में इंटरनेट और वाई-फाई समेत, कम्प्यूटर की सुविधा देने पर भी विचार किया जा रहा है। 




संचालन का समय

संगम पुस्तकालय सुबह 9:30 बजे से लेकर शाम 5:30 बजे तक हफ्ते के 6 दिन खुलता है, जिससे आगंतुकों को पुस्तकालय में मौजूद विशाल पुस्तक संग्रह और किताबों का अन्वेषण करने का विशेष समय मिलता है। चाहे आप शैक्षिक दृष्टिकोण, साहित्यिक रचना, या बस एक अच्छी किताब के साथ विश्राम करने की तलाश में हों, तो यह पुस्तकालय आपको यह सारी सुविधा उपलब्ध कराता है। हालाँकि यह पुस्तकालय मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय के देख-रेख में मौजूद है अतः पुस्तकालय अधिकाशंतः सरकारी अवकाश के दौरान बंद रहता है। 

पंजीकरण 

संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग में पंजीकरण के लिए पुस्तकालय शुल्क 200 रूपये देना होगा। पंजीकरण के लिए आपको पुस्तकालय में अपने आधार कार्ड की फोटोकॉपी जमा करनी है। पुस्तकालय उपयोग व पुस्तकालय में किताबों के लिए आपसे किसी भी तरह का अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा। आपसे बस पुस्तकालय में यह अपेक्षा की जाती है कि आप पुस्तकालय में शांति व्यवस्था बना के रखे साथ ही पुस्तकालय की समाग्रियों का सावधानीपूर्वक उपयोग करें। ताकि किसी भी तरह से पुस्तकालय की पुस्तकों और सामग्रियों को कोई क्षति न हो। ऐसी स्तिथि में आपसे ही पुस्तकालय के नुकसान की भरपाई की जाएगी। 


Sangam Library Picture Galllary 

 

Sangam Library Picture

Sangam Library Picture Sangam Library Picture

 

 

 

 

 


Sangam Library Picture Sangam Library Picture Sangam Library Picture

 

इसे भी पढ़ें – उत्तराखंड भर्ती परीक्षाओं की तैयारी के लिए किताबें 


Q&A

Q. रुद्रप्रयाग में पुस्तकालय कहाँ पर है ?
रुद्रप्रयाग में संगम पुस्तकालय जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के निकट बदरीनाथ-केदारनाथ मुख्य राजमार्ग पर स्थित है। 

Q. क्या संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग रविवार को भी खुलता है ?
 संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय के अधीन होने के कारण कार्यालय अवकाश जैसे रविवार या फिर सरकारी अवकाश के दिन नहीं खुलता है। 

Q.क्या संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग में फ्री वाई-फाई या इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध है ?
संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग में वर्तमान में यह सुविधा उपलब्ध नहीं है हालाँकि भविष्य में इन्हें इन सुविधाओं के साथ जोड़ा जा सकता है। 

Q.क्या संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग में शौचालय की सुविधा और पीने के पानी की उपलब्धता है?
जी, संगम पुस्तकालय रुद्रप्रयाग में यह दोनों ही सुविधा मौजूद हैं। 

 

उत्तराखंड में स्थित सभी प्रमुख मंदिर | All major temples in Uttarakhand


अगर आपको उत्तराखंड से सम्बंधित यह पोस्ट अच्छी  लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी बड़ी और छोटी कहानियाँ Amozone पर उपलब्ध है। आप उन्हें पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment

You cannot copy content of this page