Travel Uttarakhand

अगस्तमुनि रुद्रप्रयाग | Augustmuni Rudraprayag

अगस्तमुनि रुद्रप्रयाग | Augustmuni Rudraprayag

 

अगस्तमुनि उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित एक छोटा सा शहर है। शहर का नाम महान ऋषि अगस्त्य

Advertisement
के नाम पर रखा गया है, जिनके बारे में माना जाता है कि उन्होंने यहां तपस्या की थी। ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने अपने जीवन के कई साल अगस्तमुनि में बिताए थे और इस शहर को उत्तराखंड के सबसे पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है।



अगस्तमुनि रुद्रप्रयाग से लगभग 20 किमी की दूरी पर स्थित है, जो उत्तराखंड में एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। अगस्तेश्वर महादेव मंदिर शहर के सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है, जो भगवान शिव को समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि मंदिर का निर्माण पांडवों ने अपने निर्वासन के दौरान किया था। यह शहर अपने खूबसूरत प्राकृतिक परिवेश के लिए जाना जाता है और ट्रेकर्स और प्रकृति प्रेमियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है। अगस्तमुनि से निकलने वाले कई ट्रेकिंग मार्ग हैं, जो उत्तराखंड के कुछ सबसे खूबसूरत स्थानों की ओर ले जाते हैं।

 

अगस्तमुनि से जुडी पौराणिक कथा 

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, अगस्तमुनि का नाम महान ऋषि अगस्त्य के नाम पर रखा गया है, जिनके बारे में माना जाता है कि उन्होंने इस क्षेत्र में ध्यान किया था। अगस्त्य को हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण संतों में से एक माना जाता है और उन्हें आध्यात्मिक नेता और विद्वान के रूप में सम्मानित किया जाता है।

किंवदंती है कि अगस्त्य ने कई वर्षों तक अगस्तमुनि में ध्यान किया था, और यहीं पर उन्हें भगवान शिव से दिव्य ज्ञान और ज्ञान प्राप्त हुआ था। ऐसा कहा जाता है कि अगस्त्य भारत के दक्षिणी भाग में प्राचीन भारतीय चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद के ज्ञान को फैलाने के लिए जिम्मेदार थे।

अगस्त्य को हिंदू पौराणिक कथाओं में कई अन्य उपलब्धियों का श्रेय भी दिया जाता है। ऐसा माना जाता है कि उन्होंने महाकाव्य रामायण में राक्षस राजा रावण की हार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, और यह भी कहा जाता है कि उन्होंने राक्षस राजा महिषासुर के खिलाफ लड़ाई में भगवान राम की मदद की थी।



अगस्तमुनि में अगस्त्य को समर्पित एक मंदिर है, जिसे अगस्त्यमुनि मंदिर कहा जाता है। मंदिर मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है और इसे हिंदू तीर्थयात्रियों द्वारा एक पवित्र स्थल माना जाता है। मंदिर में अगस्त्य की एक मूर्ति है और हर साल हजारों भक्तों द्वारा दौरा किया जाता है।

कुल मिलाकर, अगस्त्य हिंदू पौराणिक कथाओं में एक प्रतिष्ठित व्यक्ति हैं, और अगस्तमुनि से उनके संबंध ने शहर को आध्यात्मिकता और प्राचीन हिंदू संस्कृति में रुचि रखने वालों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य बना दिया है।

 

अगस्तमुनि बाजार | Augustmuni Baazar

अगस्तमुनि का बाजार छोटा लेकिन जीवंत है, और यह कई प्रकार की वस्तुओं और सेवाओं की पेशकश करता है। आगंतुक किराने का सामान, सब्जियां और फल जैसी आवश्यक वस्तुओं की बिक्री करने वाली विभिन्न प्रकार की दुकानें पा सकते हैं। कई दुकानें भी हैं जो परंपरागत हस्तशिल्प और स्मृति चिन्ह बेचती हैं, जैसे ऊनी शॉल, कालीन और लकड़ी की नक्काशी।

दुकानों के अलावा, कई स्ट्रीट वेंडर भी हैं जो नमकीन और अन्य खाद्य पदार्थ बेचते हैं। आगंतुक पकौड़े, समोसा और चाट जैसे स्थानीय व्यंजनों के साथ-साथ बर्फी और जलेबी जैसी पारंपरिक मिठाइयों का स्वाद ले सकते हैं।



अगस्तमुनि का बाजार एक हलचल भरा स्थान है, खासकर बाजार के दिनों में, जो सप्ताह में एक या दो बार आयोजित किया जाता है। स्थानीय संस्कृति का अनुभव करने और शहर के दोस्ताना लोगों के साथ बातचीत करने के लिए बाजार एक बेहतरीन जगह है। आगंतुक स्थानीय कृषि पद्धतियों के बारे में भी सीख सकते हैं और क्षेत्र में उगाई जाने वाली ताजा उपज देख सकते हैं।

 

अगस्तमुनि के आसपास घूमने के स्थान | Places Near Augustmuni

अगस्तमुनि के पास कई दिलचस्प यात्रा स्थल हैं जो देखने लायक हैं, जिनमें शामिल हैं:

केदारनाथ: केदारनाथ एक प्रसिद्ध हिंदू तीर्थ स्थल है जो अगस्तमुनि से लगभग 62 किमी दूर स्थित है। यह शहर केदारनाथ मंदिर का घर है, जो भारत में भगवान शिव को समर्पित सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है।

बद्रीनाथ: बद्रीनाथ एक और महत्वपूर्ण हिंदू तीर्थ स्थल है जो अगस्तमुनि से लगभग 110 किमी दूर स्थित है। यह शहर बद्रीनाथ मंदिर के लिए जाना जाता है, जो भगवान विष्णु को समर्पित है।

चोपता: चोपता एक सुरम्य हिल स्टेशन है जो अगस्तमुनि से लगभग 35 किमी दूर स्थित है। यह शहर अपने खूबसूरत घास के मैदानों और जंगलों के लिए जाना जाता है, और यह ट्रेकिंग और कैम्पिंग के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है।

गौरीकुंड: गौरीकुंड अगस्तमुनि से लगभग 57 किमी दूर स्थित एक छोटा सा शहर है। यह शहर अपने गर्म झरनों के लिए जाना जाता है और केदारनाथ जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए एक लोकप्रिय पड़ाव है।

तुंगनाथ: तुंगनाथ अगस्तमुनि से लगभग 48 किमी दूर स्थित एक छोटा सा शहर है। यह शहर तुंगनाथ मंदिर का घर है, जो भगवान शिव को समर्पित है और दुनिया के सबसे ऊंचे शिव मंदिरों में से एक है।

देवरिया ताल: अगस्तमुनि से लगभग 45 किमी दूर स्थित देवरिया ताल एक खूबसूरत झील है। झील हरे-भरे जंगलों से घिरी हुई है और कैंपिंग और ट्रेकिंग के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है।

कुल मिलाकर, अगस्तमुनि के पास कई दिलचस्प यात्रा स्थल हैं जो तीर्थ स्थलों से लेकर प्राकृतिक सौंदर्य और साहसिक गतिविधियों तक कई प्रकार के अनुभव प्रदान करते हैं।

 

अगस्तमुनि में ठहरने के होटल | Hotel in Augustmuni

कस्बे में कुछ ही होटल और आवास विकल्प हैं। यहाँ कुछ ऐसे होटल हैं जिन पर आप अगस्तमुनि में ठहरने पर विचार कर सकते हैं:

GMVN टूरिस्ट रेस्ट हाउस: यह अगस्तमुनि में एक बजट-अनुकूल आवास विकल्प है, जिसे गढ़वाल मंडल विकास निगम (GMVN) द्वारा प्रबंधित किया जाता है। यह साफ कमरे, गर्म पानी और एक रेस्तरां जैसी बुनियादी सुविधाएं प्रदान करता है।

शिखर नेचर रिजॉर्ट: अगस्तमुनि में हरे-भरे पहाड़ों के बीच स्थित यह एक मिड-रेंज होटल है। यह टीवी, गर्म पानी और वाई-फाई जैसी आधुनिक सुविधाओं के साथ आरामदायक कमरे उपलब्ध कराता है। होटल में एक रेस्तरां भी है जो स्वादिष्ट भोजन परोसता है।



नंदा देवी रिज़ॉर्ट: यह रुद्रप्रयाग शहर में स्थित एक लक्ज़री होटल है, जो अगस्तमुनि से लगभग 10 किमी दूर है। यह टीवी, गर्म पानी और एयर कंडीशनिंग जैसी आधुनिक सुविधाओं के साथ सुसज्जित कमरे उपलब्ध कराता है। होटल में एक रेस्तरां, एक स्पा और एक स्विमिंग पूल भी है।

होटल बलबीर पैलेस: यह रुद्रप्रयाग शहर में स्थित एक बजट-अनुकूल होटल है, जो अगस्तमुनि से लगभग 10 किमी दूर है। यह टीवी, गर्म पानी और एक रेस्तरां जैसी बुनियादी सुविधाओं के साथ साफ और आरामदायक कमरे उपलब्ध कराता है।

कुल मिलाकर, ये कुछ लोकप्रिय होटल हैं जिन पर आप अगस्तमुनि और आस-पास के क्षेत्रों में ठहरने पर विचार कर सकते हैं। हालांकि, यह सुनिश्चित करने के लिए आरक्षण करने से पहले होटलों की समीक्षाओं और रेटिंग की ऑनलाइन जांच करना हमेशा एक अच्छा विचार है कि आप अपनी आवश्यकताओं और बजट को पूरा करने वाले को चुनते हैं।

 

अगस्तमुनि कैसे पहुंचे ? | How to Visit Augustmuni

अगस्तमुनि तक पहुँचने के कुछ रास्ते इस प्रकार हैं:

वायु द्वारा: अगस्तमुनि का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 160 किमी दूर है। हवाई अड्डे से, आप टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या अगस्तमुनि के लिए बस ले सकते हैं।

ट्रेन द्वारा: अगस्तमुनि का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश रेलवे स्टेशन है, जो लगभग 145 किमी दूर है। रेलवे स्टेशन से आप अगस्तमुनि के लिए बस ले सकते हैं या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।



सड़क मार्ग द्वारा: अगस्तमुनि सड़क मार्ग से उत्तराखंड और उत्तर भारत के अन्य हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। अगस्तमुनि पहुँचने के लिए आप ऋषिकेश, हरिद्वार, देहरादून और दिल्ली जैसे शहरों से बस ले सकते हैं या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। यह शहर NH-109 पर स्थित है, जो रुद्रप्रयाग को कर्णप्रयाग से जोड़ता है।

सेल्फ ड्राइव: आप आस-पास के शहरों से भी ड्राइव करके अगस्तमुनि जा सकते हैं। यह शहर देहरादून से लगभग 160 किमी, ऋषिकेश से 145 किमी और दिल्ली से 225 किमी दूर स्थित है।

 


यह पोस्ट अगर आप को अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें। साथ ही हमारी अन्य वेबसाइट को भी विजिट करें। 

 

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी बड़ी और छोटी कहानियाँ Amozone पर उपलब्ध है। आप उन्हें पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment

You cannot copy content of this page