Story Uttarakhand

जनरल बिपिन रावत की जीवनी | Biography of General Bipin Rawat

जनरल बिपिन रावत की जीवनी | Biography of General Bipin Rawat

जनरल बिपिन रावत एक भारतीय सेना के जनरल थे, जिन्होंने दिसंबर 2016 से दिसंबर 2019 तक 27वें थल सेना प्रमुख के रूप में कार्य किया। 8 दिसंबर, 2021 को एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना।

Advertisement

भारत के उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले में 16 मार्च, 1958 को जन्मे जनरल बिपिन रावत को दिसंबर 1978 में 11 गोरखा राइफल्स की 5वीं बटालियन में नियुक्त किया गया था। उन्होंने चार दशक से अधिक के अपने करियर में विभिन्न कमांड और स्टाफ नियुक्तियों में काम किया।

भारतीय सेना में उनकी विशिष्ट सेवा के लिए उन्हें उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक और परम विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया।
 बसंती बिष्ट : उत्तराखंड की प्रथम जागर गायिका | Basanti Bisht




चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के रूप में, वह भारतीय सेना में सुधारों को लागू करने के लिए जिम्मेदार थे, जिसमें तीनों सेवाओं का एकीकरण और उनके बीच संयुक्तता और तालमेल बढ़ाना शामिल था। उन्होंने 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक और 2019 में बालाकोट हवाई हमले सहित कई प्रमुख सैन्य अभियानों के सफल संचालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

उनकी मृत्यु भारतीय सशस्त्र बलों के लिए एक बड़ी क्षति थी, और उन्हें व्यापक रूप से एक दूरदर्शी नेता के रूप में माना जाता था जिन्होंने भारतीय सेना के आधुनिकीकरण में महत्वपूर्ण योगदान दिया।


 

जनरल बिपिन रावत का बचपन

जनरल बिपिन रावत का पालन-पोषण और प्रारंभिक जीवन ग्रामीण भारत में बड़े होने वाले कई बच्चों के समान था। उनका जन्म भारतीय राज्य उत्तराखंड के एक छोटे से शहर पौड़ी गढ़वाल में हुआ था, और एक मध्यमवर्गीय परिवार में उनका पालन-पोषण हुआ। उनके पिता भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट जनरल थे, जिसने सेना में करियर बनाने के उनके फैसले को प्रभावित किया होगा।

बचपन में जनरल रावत की खेलों में रुचि थी और वह एक कुशल एथलीट थे। उन्होंने फुटबॉल, वॉलीबॉल और एथलेटिक्स सहित विभिन्न खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और विभिन्न प्रतियोगिताओं में अपने स्कूल और कॉलेज का प्रतिनिधित्व किया।
उत्तराखंड की प्रसिद्ध मिठाइयाँ | Famous sweets of Uttarakhand in Hindi

जनरल रावत एक उत्कृष्ट छात्र थे और उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा देहरादून के एक प्रतिष्ठित स्कूल कैम्ब्रियन हॉल से पूरी की। इसके बाद वे 1978 में भारतीय सैन्य अकादमी में शामिल हुए और 11 गोरखा राइफल्स की 5वीं बटालियन में नियुक्त हुए।




 

जनरल बिपिन रावत का परिवार

जनरल बिपिन रावत का एक घनिष्ठ परिवार था, जिसने उनके जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनका विवाह मधुलिका रावत से हुआ था, जो एक आर्मी परिवार से हैं। दंपति के दो बच्चे थे, एक बेटा और एक बेटी।

जनरल रावत के पिता, लेफ्टिनेंट जनरल लक्ष्मण सिंह रावत भी एक प्रतिष्ठित सेना अधिकारी थे, जिन्होंने सैन्य खुफिया महानिदेशक के पद सहित विभिन्न उच्च-रैंकिंग पदों पर कार्य किया। जनरल रावत के भाई डॉ एसएस रावत एक वरिष्ठ चिकित्सक और एक प्रसिद्ध न्यूरोसर्जन हैं।
इसे भी पढ़ें – पंडित गोविंद बल्लभ पंत का जीवन परिचय और उनका राजनैतिक इतिहास

अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद, जनरल रावत और उनका परिवार करीब रहे, और वह अपनी पत्नी और बच्चों के प्रति प्यार और समर्पण के लिए जाने जाते थे। कई साक्षात्कारों में, उन्होंने अपने जीवन में परिवार के समर्थन के महत्व के बारे में बात की थी और कैसे उनका परिवार हमेशा उनकी ताकत का स्रोत रहा है।

दिसंबर 2021 में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में जनरल रावत के दुखद निधन के बाद, उनके परिवार को शीर्ष राजनीतिक नेताओं, सैन्य अधिकारियों और नागरिकों सहित पूरे भारत के लोगों से संवेदना और श्रद्धांजलि मिली। उनका परिवार उनकी विरासत को आगे बढ़ा रहा है और अपने लचीलेपन और समर्पण के माध्यम से दूसरों को प्रेरित करता है।


थल सेना अध्यक्ष और चीफ ऑफ डिफेन्स स्टॉफ के रूप में उनकी उपलब्धि

 

थल सेनाध्यक्ष और रक्षा कर्मचारियों के प्रमुख के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान जनरल बिपिन रावत के कुछ महत्वपूर्ण योगदान इस प्रकार हैं:

भारतीय सेना का आधुनिकीकरण: जनरल रावत भारतीय सेना के आधुनिकीकरण और इसे तकनीकी रूप से अधिक उन्नत बनाने के प्रबल समर्थक थे। उनके नेतृत्व में, सेना ने आधुनिक युद्धक्षेत्र में लड़ने के लिए नए हथियारों और उपकरणों को शामिल करने और नई क्षमताओं के विकास सहित कई आधुनिकीकरण की पहल की।

संयुक्तता और एकीकरण पर ध्यान: पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के रूप में, जनरल रावत तीनों सेवाओं के बीच संयुक्तता और तालमेल बढ़ाने के लिए भारतीय सेना में सुधारों को लागू करने के लिए जिम्मेदार थे। उन्होंने तीनों सेवाओं को एकीकृत करने और उन्हें अधिक कुशल और प्रभावी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

काउंटर-इंसर्जेंसी ऑपरेशंस: जनरल रावत को काउंटर-इंसर्जेंसी ऑपरेशंस का व्यापक अनुभव था और सेना की काउंटर-इंसर्जेंसी रणनीति तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर में आतंकवादी समूहों के खिलाफ सफल अभियान चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
उत्तराखंड में स्थित सभी प्रमुख मंदिर | All major temples in Uttarakhand




सर्जिकल स्ट्राइक: सितंबर 2016 में जब भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादी लॉन्च पैड को निशाना बनाकर नियंत्रण रेखा के पार सर्जिकल स्ट्राइक किया था, तब जनरल रावत सेना प्रमुख थे। ऑपरेशन एक बड़ी सफलता थी और पाकिस्तान को एक मजबूत संदेश भेजने में मदद मिली।

बालाकोट एयरस्ट्राइक: सेना प्रमुख के रूप में जनरल रावत फरवरी 2019 में बालाकोट एयरस्ट्राइक की योजना बनाने और उसे अंजाम देने में भी शामिल थे, जिसमें भारतीय वायु सेना के जेट विमानों ने पाकिस्तान में एक आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर पर बमबारी की थी। यह ऑपरेशन एक बड़ी सफलता थी और इसने दुश्मन के इलाके में काफी अंदर तक हमला करने की भारत की क्षमता का प्रदर्शन किया।

सैनिकों का कल्याण: जनरल रावत सैनिकों और उनके परिवारों के कल्याण पर ध्यान देने के लिए जाने जाते थे। उन्होंने बेहतर स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा और आवास सुविधाओं के प्रावधान सहित सैनिकों और उनके परिवारों के रहने और काम करने की स्थिति में सुधार के लिए कई उपाय शुरू किए।

ये भारतीय सेना में अपने विशिष्ट करियर के दौरान जनरल बिपिन रावत के कुछ प्रमुख योगदान हैं। एक दूरदर्शी नेता और एक समर्पित सैनिक के रूप में उनकी विरासत भारत में सैन्य नेताओं की भावी पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी।

 


यह पोस्ट अगर आप को अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें। साथ ही हमारी अन्य वेबसाइट को भी विजिट करें। 

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी बड़ी और छोटी कहानियाँ Amozone पर उपलब्ध है। आप उन्हें पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment

You cannot copy content of this page