Temple Uttarakhand

नीलकंठ महादेव मंदिर ऋषिकेश | NeelKanth Mahadev Temple Rishikesh

नीलकंठ महादेव मंदिर | NeelKanth Mahadev Temple

 

नीलकंठ महादेव मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले में स्थित एक अत्यंत प्रतिष्ठित हिंदू मंदिर है। समुद्र तल से लगभग 1,330 मीटर (4,360 फीट) की ऊंचाई पर स्थित, यह मंदिर ऋषिकेश शहर से लगभग 32 किलोमीटर (20 मील) दूर हिमालय के सुरम्य जंगलों के बीच स्थित है।

Advertisement

नीलकंठ महादेव मंदिर शांत प्राकृतिक सुंदरता से घिरा हुआ है, पास में बहती गंगा नदी और हरे-भरे पहाड़ एक राजसी पृष्ठभूमि बनाते हैं। मंदिर की वास्तुकला पारंपरिक उत्तर भारतीय शैली को दर्शाती है, इसकी दीवारों पर जटिल नक्काशी और मूर्तियां सजी हुई हैं। भगवान शिव का आशीर्वाद लेने और पूजा-अर्चना करने के लिए दूर-दूर से भक्त मंदिर में आते हैं।

खासकर महा शिवरात्रि के शुभ अवसर के दौरान, जब विशेष उत्सव आयोजित किए जाते हैं। मंदिर के शांत वातावरण में सांत्वना और आध्यात्मिक ज्ञान की तलाश में तीर्थयात्री पूरे वर्ष आते रहते हैं। अपने धार्मिक महत्व के अलावा, नीलकंठ महादेव मंदिर पास के राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के प्रवेश द्वार के रूप में भी कार्य करता है, जो अपने विविध वन्य जीवन और हरी-भरी हरियाली के लिए जाना जाता है।




नीलकंठ महादेव मंदिर के पीछे की कहानी

नीलकंठ महादेव मंदिर | NeelKanth Mahadev Templeनीलकंठ महादेव मंदिर के पीछे की कहानी हिंदू पौराणिक कथाओं में निहित है और यह समुद्र मंथन के नाम से जानी जाने वाली पौराणिक घटना के इर्द-गिर्द घूमती है। पुराणों सहित प्राचीन ग्रंथों के अनुसार कथा इस प्रकार है:

एक बार, देवताओं और असुरों (राक्षसों) ने अमरता का अमृत प्राप्त करने के लिए  महासागर का मंथन करने का फैसला किया। उन्होंने भगवान विष्णु से मदद मांगी और मंदार पर्वत को मंथन की छड़ी के रूप में इस्तेमाल किया, जबकि नाग वासुकी रस्सी बन गए।

मंथन प्रक्रिया के दौरान, समुद्र से कई दिव्य और रहस्यमय वस्तुएं निकलीं, जिनमें कामधेनु (इच्छा पूरी करने वाली गाय), उच्चैश्रवा (दिव्य सफेद घोड़ा), और देवी लक्ष्मी शामिल थीं। हालाँकि, जैसे-जैसे मंथन जारी रहा, समुद्र की गहराई से हलाहल नामक घातक जहर निकला।

जहर इतना शक्तिशाली था कि इससे पूरी सृष्टि के नष्ट होने का खतरा था। विनाशकारी परिणामों के डर से, देवता और असुर भगवान शिव की सहायता लेने के लिए दौड़ पड़े। भगवान शिव, जो अपनी करुणा के लिए जाने जाते हैं, ने हस्तक्षेप करने का फैसला किया।

नीलकंठ  के रूप में, भगवान शिव ने ब्रह्मांड को उसकी विनाशकारी शक्ति से बचाने के लिए हलाहल विष को अपनी कंठ में धारण किया । जिससे उसका गला नीला पड़ गया। तभी से उन्हें नीलकंठ के नाम से जाना जाने लगा , जहां “नील” का अर्थ नीला और “कंठ” का अर्थ गला है।

माना जाता है कि नीलकंठ महादेव मंदिर वही स्थान है जहां भगवान शिव ने जहर पीया था। यह एक अत्यंत पवित्र स्थान माना जाता है जहां भक्त दुनिया की रक्षा करने के भगवान शिव के करुण भाव के दर्शन करने  पहुंचते हैं ।

नीलकंठ महादेव मंदिर के दर्शन करने से भक्तों को भगवान शिव की कृपा से जुड़ने और उनका आशीर्वाद लेने का मौका मिलता है। यह मंदिर हिंदू पौराणिक कथाओं में वर्णित भक्ति, त्याग और शाश्वत सत्य की स्थायी शक्ति के प्रमाण के रूप में खड़ा है।

उत्तराखंड में घूमने की 40 खूबसूरत जगहें



नीलकंठ महादेव मंदिर की वास्तुकला

नीलकंठ महादेव मंदिर | NeelKanth Mahadev Templeनीलकंठ महादेव मंदिर की वास्तुकला पारंपरिक उत्तर भारतीय मंदिर वास्तुकला से प्रेरित है। यहां कुछ उल्लेखनीय विशेषताएं दी गई हैं:

प्रवेश और प्रवेश द्वार: मंदिर में एक प्रमुख प्रवेश द्वार है जो जटिल नक्काशी और मूर्तियों से सुसज्जित है। प्रवेश द्वारों पर अक्सर विभिन्न देवी-देवताओं, पौराणिक प्राणियों और हिंदू पौराणिक कथाओं के दृश्यों का चित्रण होता है। ये विस्तृत प्रवेश द्वार मंदिर परिसर में एक भव्य और स्वागत योग्य प्रवेश द्वार बनाते हैं।

मंडप: मंदिर परिसर में आम तौर पर एक मंडप शामिल होता है, जो एक स्तंभित हॉल होता है जिसका उपयोग सामूहिक समारोहों और समारोहों के लिए किया जाता है।  मंडप के स्तंभों पर जटिल रूपांकनों और मूर्तियों की नक्काशी की गई है, जिनमें देवी-देवताओं और पौराणिक दृश्यों को दर्शाया गया है।

गर्भगृह : मंदिर के मुख्य गर्भगृह में भगवान शिव की मूर्ति या लिंगम है। गर्भगृह एक छोटा और आमतौर पर मंद रोशनी वाला कक्ष है, जो परमात्मा के गर्भ का प्रतीक है। गर्भगृह को मंदिर का सबसे पवित्र हिस्सा माना जाता है और यह भक्ति का केंद्र बिंदु है।
उत्तराखंड की प्रसिद्ध मिठाइयाँ | Famous sweets of Uttarakhand in Hindi

नीलकंठ महादेव मंदिर | NeelKanth Mahadev Templeशिखर : मंदिर को एक शिखर से सजाया गया है, एक टॉवर जैसी संरचना जो गर्भगृह से ऊपर उठती है। शिखर पर अक्सर जटिल नक्काशी की जाती है और देवताओं, दिव्य प्राणियों और पौराणिक आकृतियों की मूर्तियों से सजाया जाता है। यह देवताओं के निवास स्थान, ब्रह्मांडीय पर्वत मेरु का प्रतिनिधित्व करता है।

नक्काशी और मूर्तियां: नीलकंठ महादेव मंदिर की दीवारें और खंभे उत्कृष्ट नक्काशी और मूर्तियों से सुशोभित हैं। ये जटिल डिज़ाइन विभिन्न देवी-देवताओं, दिव्य प्राणियों, पौराणिक आख्यानों और जटिल पुष्प रूपांकनों को दर्शाते हैं। शिल्प कौशल मंदिर का निर्माण करने वाले कारीगरों की कलात्मक कौशल और भक्ति को दर्शाता है।

परिवेश और परिदृश्य: मंदिर हिमालय की तलहटी की प्राकृतिक सुंदरता के बीच स्थित है। आसपास की हरी-भरी हरियाली, पहाड़ और बहती गंगा नदी का परिदृश्य मंदिर के शांत और आध्यात्मिक माहौल को बढ़ाता है।

नीलकंठ महादेव मंदिर की वास्तुकला में धार्मिक प्रतीकवाद, कलात्मक अभिव्यक्ति और प्रकृति के साथ सामंजस्य का मिश्रण है। यह भक्तों को परमात्मा से जुड़ने और शांति और शांति की भावना का अनुभव करने के लिए एक पवित्र स्थान प्रदान करता है।




कैसे पहुंचे नीलकंठ महादेव मंदिर ?

नीलकंठ महादेव मंदिर (NeelKanth Mahadev Temple) तक पहुंचने के लिए आप ऋषिकेश से निम्नलिखित मार्ग का अनुसरण कर सकते हैं:

सड़क मार्ग: मंदिर तक पहुंचने का सबसे आम रास्ता सड़क मार्ग है। ऋषिकेश से, आप मंदिर तक पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या निजी वाहन ले सकते हैं। ऋषिकेश और नीलकंठ महादेव मंदिर के बीच की दूरी लगभग 32 किलोमीटर (20 मील) है, और यातायात और सड़क की स्थिति के आधार पर यात्रा में लगभग 1 से 1.5 घंटे लगते हैं।

ट्रैकिंग द्वारा: यदि आप ट्रैकिंग का आनंद लेते हैं और अधिक साहसिक अनुभव चाहते हैं, तो आप मंदिर तक ट्रैकिंग का विकल्प भी चुन सकते हैं। वहाँ जंगली रास्ते हैं जो मंदिर तक जाते हैं, और आपकी गति और फिटनेस स्तर के आधार पर, ट्रेक को पूरा करने में लगभग 3-4 घंटे लगते हैं। सुरक्षा और मार्गदर्शन के लिए स्थानीय गाइड लेने या ट्रैकिंग समूह में शामिल होने की सलाह दी जाती है।

सार्वजनिक परिवहन द्वारा: नीलकंठ महादेव मंदिर तक पहुँचने के लिए ऋषिकेश से सार्वजनिक बसें या साझा जीपें उपलब्ध हैं। आप ऋषिकेश बस स्टैंड पर बस या जीप के समय के बारे में पूछताछ कर सकते हैं। हालाँकि, सार्वजनिक परिवहन विकल्प सीमित हो सकते हैं, इसलिए शेड्यूल की पहले से जाँच करने की अनुशंसा की जाती है।

उत्तराखंड में स्थित सभी प्रमुख मंदिर | All major temples in Uttarakhand

 

नीलकंठ महादेव को लेकर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

 

प्रश्न: नीलकंठ महादेव मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय क्या है?
उत्तर: मंदिर में साल भर जाया जा सकता है, लेकिन यात्रा का सबसे अच्छा समय फरवरी से अप्रैल और सितंबर से नवंबर के महीनों के दौरान है जब मौसम सुखद होता है और बाहरी गतिविधियों के लिए अनुकूल होता है।

प्रश्न: क्या मंदिर में जाने के लिए कोई प्रवेश शुल्क है?
उत्तर: नहीं, नीलकंठ महादेव मंदिर के दर्शन के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं है। यह सभी भक्तों और आगंतुकों के लिए निःशुल्क खुला है।

प्रश्न: क्या मंदिर में कोई अनुष्ठान या समारोह आयोजित किया जाता है?
उत्तर: हां, नीलकंठ महादेव मंदिर में नियमित पूजा समारोह आयोजित किए जाते हैं। भक्त इन समारोहों को देख सकते हैं और भगवान शिव को प्रार्थना, फूल और अन्य प्रसाद चढ़ाकर भाग ले सकते हैं।

प्रश्न: क्या गैर-हिन्दू नीलकंठ महादेव मंदिर जा सकते हैं?
उत्तर: हां, मंदिर सभी धर्मों और पृष्ठभूमि के लोगों के लिए खुला है। गैर-हिंदुओं का मंदिर में आने और आध्यात्मिक माहौल का अनुभव करने के लिए स्वागत है।

प्रश्न: क्या मंदिर के पास कोई आवास उपलब्ध है?
उत्तर: हां, मंदिर के आसपास कुछ गेस्टहाउस, आश्रम और होटल उपलब्ध हैं जहां आगंतुकों को आवास मिल सकता है। ऋषिकेश, जो पास में ही स्थित है, आवास विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला भी प्रदान करता है।

प्रश्न: क्या आस-पास घूमने के लिए कोई आकर्षण या दिलचस्प जगहें हैं?
उत्तर: हां, नीलकंठ महादेव मंदिर के अलावा, आप क्षेत्र के अन्य आकर्षण देख सकते हैं। इसमें गंगा नदी, राजाजी राष्ट्रीय उद्यान और ऋषिकेश के अन्य मंदिर और आश्रम शामिल हैं।

प्रश्न: क्या मंदिर के अंदर फोटोग्राफी की अनुमति है?
उ: आमतौर पर मंदिर परिसर के बाहर फोटोग्राफी की अनुमति है। हालाँकि, मंदिर के अंदर या किसी धार्मिक समारोह के दौरान तस्वीरें लेने से पहले अनुमति मांगना उचित है।


अगर आपको उत्तराखंड से सम्बंधित यह पोस्ट अच्छी  लगी हो तो इसे शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी बड़ी और छोटी कहानियाँ Amozone पर उपलब्ध है। आप उन्हें पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment

You cannot copy content of this page