Uttarakhand Uttarakhand Study Material

उत्तराखंड विधानसभा क्षेत्र, विधानसभा सीटें व राज्य का राजनीतिक स्वरूप

उत्तराखंड विधानसभा क्षेत्र

उत्तराखंड का राजनीतिक स्वरूप

उत्तराखंड का गठन 9 नवम्बर 2000 ईसवी को उत्तर के एक पहाड़ी राज्य के रूप  उत्तर प्रदेश से अलग करके किया गया। पृथक राज्य के लिए उत्तराखंड  के कई स्थानों पर जोर शोर से आन्दोलन हुए। इन जनान्दोलनों को दबाने की उत्तर प्रदेश सरकार ने भी कोशिशें की मगर नाकाम रहे।

उत्तराखंड पृथक राज्य की मांग हालांकि 1952 से उठने लगी थी, तथापि 1978 में समाज के सभी वर्गों ने उत्तराखंड संघर्ष वाहिनी का गठन करके पृथक उत्तराखण्ड राज्य के आन्दोलन को व्यवस्थित रूप देने का प्रयास किया। इसी क्रम में जुलाई 1979 को कुमाऊं विश्वविद्यालय के भूतपूर्व उपकुलपति डा देवीदत्त पंत की अध्यक्षता में एज राजनीतिक दल उत्तराखंड क्रांति दल (UKD) का गठन किया गया।
इसे भी पढ़ें -उत्तराखंड का प्रगैतिहासिक इतिहास

इसमें  शिक्षा शास्त्री, समाजसेवी, पर्यावरणविद, छात्र, महिलाएं तथा सभी धर्मों और विचारधाराओं के लोग सम्मिलित थे। इसका मुख्य उद्देश्य पृथक राज्य प्राप्ति था। उद्देश्य की पूर्ति हेतु शांतिपूर्ण व अहिंसात्मक आन्दोलन चलाने का संकल्प लिया गया और इन आंदोलनों के फलस्वरूप उत्तराखंड को 9 नवम्बर 2000 को पृथक राज्य के रूप में गठित कर यहाँ अंतरिम सरकार का गठन किया गया।

प्रारंभ में उत्तराखंड में उत्तर प्रदेश पुनर्गठन विधेयक 2000 के अनुसार 30 विधायक ही विधान सभा विधान परिषद के लिए निर्वाचित व मनोनीत हुए थे। लेकिन फरवरी 2008 में विधानसभा क्षेत्रों का पुनः परिसीमन करके राज्य में कुल विधानसभा सीटों की संख्या 71 हो गई। वर्तमान में राज्य में विधानसभा की कुल 70 सीटें हैं जिनमें से 1 सीट पर एंग्लो इंडियन समुदाय के प्रतिनिधि का मनोनयन निश्चित किया जाता है।




उत्तराखंड में कुल विधानसभा सीटें 

उत्तराखंड में कुल 71 विधानसभा  जिनमे से 1 सीट पर राज्य के एंग्लो इंडियन समुदाय के सदस्य को मनोनीत किया जाता है। इन सभी विधानसभा सीटों में से हरिद्वार व देहरादून जनपद में सबसे ज्यादा क्रमशः 11 व 10 सीट हैं। वहीँ सबसे काम विधानसभा सीटें चम्पावत, बागेश्वर और रुद्रप्रयाग में हैं। इन तीनों जनपदों में विधानसभा की 2 सीटें हैं। 
इसे भी पढ़ें – उत्तराखंड में हुए प्रमुख जन आंदोलन 

 

उत्तराखंड में विधानसभा सीटें व विधानसभा क्षेत्र 

 

    जनपद विधानसभा सीटें                           विधानसभा क्षेत्र 
देहरादून 10विकासनगर, धर्मपुर, देहरादून, राजपुर (अ०जा०), मसूरी, 

ऋषिकेश, रायपुर, डोईवाला, सहसपुर, चकराता (अ०ज०जा०)

हरिद्वार 11रुड़की, पिरानकलियार,  मंगलौर, भेल, ज्वालापुर (अ०जा०)

झबरेड़ा (अ० जा०), लक्सर, खानपुर, हरिद्वार, हरिद्वार ग्रामीण 

भगवानपुर (अ०ज०)

टिहरी गढ़वाल 6टिहरी, घनसाली (अ०जा०), नरेंद्रनगर, देवप्रयाग, प्रतापनगर

धनोल्टी 

पौड़ी गढ़वाल 6यमकेश्वर, कोटद्वार, चौबट्टाखाल, लैंसडाउन, पौड़ी (अ०जा०),

 श्रीनगर (अ०जा०)

नैनीताल 6लालकुंआ, हल्द्वानी, नैनीताल (अ०ज०), रामनगर, भीमताल 

कालाढूंगी 

पिथौरागढ़ 4डीडीहाट, पिथौरागढ़, गंगोलीहाट (अ०जा०), धारचूला 
अल्मोड़ा 6द्वाराहाट, सल्ट, रानीखेत, अल्मोड़ा, जागेश्वर, सोमेश्वर (अ०जा०)
उधम सिंह नगर 9जसपुर, काशीपुर, बाजपुर (अ०जा०), खटीमा, गदरपुर, रुद्रपुर 

किच्छा, सितारगंज, नानकमत्ता ((अ०ज०जा०) 

चमोली 3बदरीनाथ, कर्णप्रयाग, थराली (अ०जा०)
चम्पावत 2चम्पावत, लोहाघाट 
बागेश्वर 2कपकोट, बागेश्वर (अ०जा०)
रुद्रप्रयाग 2रुद्रप्रयाग, केदारनाथ 
उत्तरकाशी गंगोत्री, यमुनोत्री, पुरोला (अ०जा०)




उत्तराखंड में राज्यसभा सीटें – 

उत्तराखंड में राजयसभा की कुल 3 सीटें हैं।  वर्तमान में इन तीन सीटों पर श्री अनील बलूनी, श्री नरेश बंसल, श्री प्रदीप टम्टा को  राजयसभा सभा भेजा गया है। 

उत्तराखंड में लोकसभा सीटें – 

उत्तराखंड में लोकसभा की 5 सीटें हैं जो क्रमशः टिहरी गढ़वाल, पौड़ी गढ़वाल, नैनीताल, अल्मोड़ा, हरिद्वार संसदीय क्षेत्रों के अंतर्गत आते हैं। 

 

इसे भी पढ़ें –  उत्तराखंड के लोकगीत एवं संगीत 

 


उत्तराखंड विधानसभा क्षेत्र के बारे में यह जानकारी अगर आपको अच्छी लगती हैं तो पोस्ट शेयर करें साथ ही हमारे इंस्टाग्रामफेसबुक पेज व  यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें।

About the author

Deepak Bisht

नमस्कार दोस्तों | मेरा नाम दीपक बिष्ट है। मैं पेशे से एक journalist, script writer, published author और इस वेबसाइट का owner एवं founder हूँ। मेरी किताब "Kedar " amazon पर उपलब्ध है। आप उसे पढ़ सकते हैं। WeGarhwali के इस वेबसाइट के माध्यम से हमारी कोशिश है कि हम आपको उत्तराखंड से जुडी हर छोटी बड़ी जानकारी से रूबरू कराएं। हमारी इस कोशिश में आप भी भागीदार बनिए और हमारी पोस्टों को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिये। इसके अलावा यदि आप भी उत्तराखंड से जुडी कोई जानकारी युक्त लेख लिखकर हमारे माध्यम से साझा करना चाहते हैं तो आप हमारी ईमेल आईडी wegarhwal@gmail.com पर भेज सकते हैं। हमें बेहद खुशी होगी। मेरे बारे में ज्यादा जानने के लिए आप मेरे सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ सकते हैं। :) बोली से गढ़वाली मगर दिल से पहाड़ी। जय भारत, जय उत्तराखंड।

Add Comment

Click here to post a comment